ताज़ा खबर
 

राम रहीम मामला: पंचकुला पहुंचे 1.5 लाख डेरा समर्थक, बुलाई जा सकती है सेना

Dera Sacha Sauda, Ram Rahim Singh News: प्रशासन ने जिला अदालत की ओर जाने वाली सड़कों पर 18 सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। इन कैमरों की निगरानी नजदीकी थानों से की जा रही है और पुलिस डेरा समर्थकों की हरेक गतिविधियों पर नजर रख रख रही है।
पंचकुला के ताऊ देवी लाल स्टेडियम में मौजूद डेरा सच्चा समर्थक (Express Photo by Sahil Walia)

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ दायर यौन उत्पीड़न के एक मामले में 25 अगस्त को आने वाले अदालती फैसले से पहले हरियाणा में अधिकतम सतर्कता बरती जा रही है लेकिन सरकार की सख्ती, निषेधाज्ञा के बावजूद पंचकुला में अब तक 1.5 लाख डेरा समर्थक पहुंच चुके हैं। राज्य सरकार ने बुधवार को कहा कि कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाये रखने के लिए सेना की भी मदद ले सकती है। पंचकुला में इतनी बड़ी भीड़ को देखकर स्थानीय लोगों में खौफ का माहौल है। पंचकुला और चंडीगढ़ में स्कूल, कॉलेज, दुकानें, और व्यावसायिक गतिविधियां बंद कर दी गई हैं। बता दें कि अदालत ने डेरा प्रमुख राम रहीम को व्यक्ति रुप से सीबीआई की विशेष अदालत में पेश होने को कहा है। हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राम निवास ने कहा कि राज्य में डेरा के ‘‘नाम चर्चा घर’’ में अनुयायियों के लाठी या हथियार लेने जाने पर रोक लगा दी गयी है। रामनिवास ने पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा ‘‘ यदि जरूरत हुई तो राज्य सरकार सेना बुलायेगी और समय तथा परिस्थितियों के अनुसार जरूरत होने पर कर्फ्यू भी लगायेगी तथा कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को बनाये रखने के लिए सभी कदम उठायेंगी।’’

पंचकुला के जिराकपुर में पेट्रोलिंग करती पुलिस की अश्वरोही टीम (Express Photo by Sahil Walia)

उन्होंने कहा कि आतंरिक सूत्रों से हरियाणा को अर्द्धसैनिक बलों की आठ टुकड़ियां और अतिरिक्त 2,500 पुलिसकर्मी मिले हैं। उन्होंने कहा कि संवेदनशील स्थानों पर 10 वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों को तैनात किया जायेगा। भीड़ को काबू में करने के लिए करीब 2,000 होमगार्ड को बुलाया गया हैं और राज्य में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पर्याप्त सुरक्षा प्रबंध किये गये हैं।प्रशासन ने जिला अदालत की ओर जाने वाली सड़कों पर 18 सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। इन कैमरों की निगरानी नजदीकी थानों से की जा रही है और पुलिस डेरा समर्थकों की हरेक गतिविधियों पर नजर रख रख रही है। पंचकुला के जिला अदालत परिसर की ओर जाने वाली सड़कों के पास भारी संख्या में पुलिस और अद्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है, जहां वकीलों ने बुधवार से ही तीन दिन के लिए अपना काम निलंबित कर दिया है ताकि अदालत आने वाले लोगों को असुविधा नहीं हो।

पंचकुला के नाम चर्चा घर में लंगर तैयार करते डेरा समर्थक (Express photo by Jaipal Singh)

केन्द्र ने भी पंजाब और हरियाणा सरकारों को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। दिल्ली में गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा ‘‘ हम पंजाब और हरियाणा सरकारों के साथ लगातार संपर्क में हैं। जिस भी मदद की जरूरत होगी हम उपलब्ध करायेंगे।’’ पंचकूला में सीबीआई अदालत के निर्णय के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने सभी उपायुक्तों,उपमंडलीय अधिकारियों (नागरिक) और हरियाणा नागरिक सेवाओं के अन्य अधिकारियों को अगले आदेशों तक छुट्टी पर नहीं जाने के निर्देश दिये हैं। हरियाणा कर्मचारी विभाग की प्रवक्ता ने बताया कि जिन कर्मचारियों की छुट्टियां मंजूर हो गयी थीं वे रद्द हो गयी हैं। हरियाणा स्वास्थ्य विभाग ने भी 30 अगस्त तक सभी चिकित्सा और अर्द्धचिकित्सा र्किमयों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं।

चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन के बाहर पेट्रोलिंग करते रैफ जवान
(Express Photo by Sahil Walia)

जब पूछा गया कि क्या डेरा प्रमुख पंचकुला की अदालत में शुक्रवार को पेश होंगे तो डेरा सच्चा सौदा के एक प्रवक्ता ने बुधवार को कहा कि पंथ और इसके प्रमुख ने हमेशा कानून का पालन किया है और ऐसा ही भविष्य में भी करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘हमने हमेशा कानून की प्रक्रिया का पालन किया है और हम कभी कानून के दायरे से बाहर नहीं गए और ऐसा कभी नहीं करेंगे।’’ जब सवाल किया गया कि क्या गुरमीत राम रहीम सिंह अपने अनुयायियों से कानून एवं व्यवस्था और शांति बनाए रखने में मदद करने की अपील करेंगे तो उन्होंने कहा, ‘‘ (सिरसा में) सुबह और शाम के अपने सतसंग के दौरान गुरूजी ने हमेशा मानवता और ऐसी चीजों के बारे में बात करते हैं जो मानवता के लिए लाभकारी हैं। वह पौधा रोपण, अंग प्रतिरोपण, रक्तदान और कमजोर तबकों की मदद के बारे में बात करते हैं।’’

डेरा समर्थकों को पंचकुला के सेक्टर-3 स्थित पब्लिक पार्क में भेजा गया (Express photo by Jaipal Singh)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Aug 24, 2017 at 3:40 pm
    मनोहर लाल खट्टर हिंसक भीड़ के सामने घुटने टेक देते हैं ! नवंबर 2014 में तथाकथित संत रामपाल को गिरफ्तार किया जाना था लेकिन उसके हज़ारों बेशर्म समर्थक , हिसार स्थित आश्रम के बाहर लामबंद होगये ! चीफ मिनिस्टर मनोहर लाल खट्टर के हाथ पाँव फूल गए और वो कोई एक्शन नहीं ले पाए ! लगभग 2 हफ्ते ये नौटंकी चली ! माननीय उच्च न्यायलय ने हरियाणा के चीफ सेक्रेटरी को रामपाल को अरेस्ट करने के लिए रेस्पोंसिबल बनाया, तब जाकर रामपाल अरेस्ट हो पाया ! फिर, गत वर्ष , जाट आंदोलन के समय खूब लूटपाट, आगजनी, बलात्कार हुए और सैंकड़ों करोड़ की संपत्ति नष्ट हुयी लेकिन मनोहर लाल खट्टर की पुलिस, राजनीतिक दिशानिर्देश के अभाव में चुपचाप तमाशा देखती रही ! राम रहीम के वर्तमान केस में भी यही होता नज़र आ रहा है, क्योंकि जो बेशर्म समर्थक हथियार लेकर घूम रहे हैं या हथियार और ज्वलनशील पदार्थ यानि पेट्रोल, डीजल अपने घरों में जमा कर रहे हैं, उनके खिलाफ "राष्ट्रीय सुरक्षा कानून" के तहत कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही ?
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Aug 24, 2017 at 3:32 pm
      हिंसा पर उतारू भीड़ को हैंडल करने में हरियाणा सरकार की कार्यकुशलता का कोई मुकाबला नहीं ! गत वर्ष जाट आंदोलन के समय दंगाइयों ने जी भरकर लूटपाट, आगजनी और बलात्कार किये और हरियाणा सरकार ने फायरिंग तक नहीं करवाई ! कहीं ऐसा ना हो की इस बार भी हाट लुट जाए और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की पुलिस, जाट आंदोलन के वक़्त की तरह, मूक दर्शक बनकर सिर्फ तमाशा देखती रहे ! जब मंदसौर में क़र्ज़ में डूबे गरीब किसानों पर फायरिंग करवाई जा सकती है तो हरियाणा में किसी सज़ायाफ्ता मुजरिम के समर्थकों पर क्यों नहीं ? केंद्रीय गृहमंत्रालय को चाहिए para-military forces के जवानों कोआदेश दे की दंगाइयों की भीड़ को चारों तरफ से घेर कर फायरिंग की जाए , ताकि आगे से कोई मुजरिम भीड़ के द्वारा दंगा कराने की जुर्रत ना कर सके !
      (0)(0)
      Reply