ताज़ा खबर
 

चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामला: बीजेपी हरियाणा चीफ के बेटे, दोस्‍त को जुडिशियल कस्‍टडी

इस बीच छेड़छाड़ के विरोध में और कठोर संदेश देने के लिए चंडीगढ़ में सैकड़ों महिलाओं ने देर रात मार्च किया। महिलाओं का कहना था कि हम किसी भी समय कहीं भी आ-जा सकते हैं।
Author August 12, 2017 18:14 pm
विकास बराला और उसके दोस्त आशीष कुमार को अदालत ने दो दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया। (PTI)

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके एक दोस्त आशीष कुमार को एक आईएएस अधिकारी की बेटी का पीछा करने और अपहरण करने की कोशिश करने के मामले में शनिवार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। गुरुवार को अदालत ने दोनों आरोपियों को चंडीगढ़ पुलिस को दो दिन की हिरासत में सौंपा था, जिसकी अवधि समाप्त होने के बाद शनिवार को पुलिस ने उन्हें अदालत के सामने पेश किया। पुलिस ने शनिवार को आरोपियों को हिरासत में सौंपने की मांग नहीं की।

चार-पांच अगस्त की रात हुई वारदात के बाद पुलिस ने दोनों को पांच अगस्त को गिरफ्तार किया था, लेकिन जमानती आरोपों के चलते दोनों उसी दिन जमानत पर छूट गए थे। उसके बाद पुलिस ने बुधवार को दोनों से पूछताछ के बाद उनके खिलाफ गैर जमानती धाराएं बढ़ा दीं और फिर से गिरफ्तार कर लिया। विकास और आशीष ने हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव वी. एस. कुंडू की बेटी वर्णिका कुंडू का पीछा करने की बात तो कबूल ली है, लेकिन अपहरण करने की मंशा से इनकार किया है।

इस बीच छेड़छाड़ के विरोध में और कठोर संदेश देने के लिए चंडीगढ़ में सैकड़ों महिलाओं ने देर रात मार्च किया। महिलाओं का कहना था कि हम किसी भी समय कहीं भी आ-जा सकते हैं। हम कहीं भी आने जाने के लिए आजाद हैं। ये हमरा अधिकार है। यह मार्च शुक्रवार रात 11 बजे सेक्टर 16 में स्थित चंडीगढ़ रोज गार्डन से शुरू हुआ और ‘गेरी रूट’ के नाम से मशहूर सेक्टर 10 और 11 के रास्ते निकला गया।

मार्च में शामिल युवतियों और उम्रदराज महिलाओं ने ‘बेखौफ आजादी मार्च’ निकालते हुए कहा कि वे ‘यहां के पीछा करने वाले और सांभ्रांत गुंडों’ के खिलाफ सड़कों पर अपना हक जताने के लिए निकली हैं। मार्च में शामिल कार्यकर्ता एमी सिंह ने कहा, “हमने सभी को यह संदेश देने के लिए सड़कों पर उतरे हैं कि महिलाएं किसी भी समय कहीं भी आने जाने के लिए आजाद हैं और वे पुरुषों का दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं करेंगी।”

यह विरोध प्रदर्शन विकास बराला और उसके दोस्त आशीष कुमार द्वारा हरियाणा कैडर के शीर्ष आईएएस अधिकारी वी.एस. कुंडु की बेटी का पीछा और छेड़छाड़ करने के एक सप्ताह बाद आयोजित किया गया। दोनों आरोपियों को पांच अगस्त को गिरफ्तार कर लिया गया था। लेकिन जल्द ही वे जमानत पर छूट गए। हालांकि मीडिया के दबाव के चलते पुलिस ने बाद में उन्हें भारतीय दंड संहिता की गैर जमानती धाराओं 365 और 511 (अपहरण के प्रयास) के तहत फिर से गिरफ्तार कर लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Aug 12, 2017 at 8:37 pm
    DGP Baljeet Singh Sandhuji aur SSP Ish सिंघलजी ko Salutations, jinhone Vikaas Barala ke maamle main apne Farz ko bakhuvi anzaam diya !
    Reply
सबरंग