ताज़ा खबर
 

फुरसत पाकर संतों की शरण में पहुंचे अमित शाह

पार्टी की थाह लेने को हरियाणा दौरे पर आए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह गुरुवार को धरम की शरण में रहे और संतों के गुण गाए। उनके साथ पत्नी सोनल शाह भी थीं।
Author August 4, 2017 00:46 am
हरियाणा में संगठन के विस्तार में अहम भूमिका निभाने वाले कर्मयोगी एवं हरियाणा के पूर्व उपमुख्यमंत्री डॉ. मंगलसेन जी को पुष्पांजलि अर्पित की

संजीव शर्मा

पार्टी की थाह लेने को हरियाणा दौरे पर आए भाजपा के राष्ट्रीय  अध्यक्ष अमित शाह गुरुवार को धरम की शरण में रहे और संतों के गुण गाए। उनके साथ पत्नी सोनल शाह भी थीं। दोनों ने हरियाणा में विभिन्न धार्मिक डेरों में नतमस्तक होकर आगामी चुनाव में जीत के लिए आशीर्वाद की कामना की।  देश के सियासी नेताओं का केंद्र बिंदु रहने वाला रोहतक के गढ़ी सांपला स्थित कालीदास धाम पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी पहुंच गए। शाह ने धाम पर माथा टेका और जीत के लिए आशीर्वाद लिया। रोहतक-दिल्ली मार्ग पर गढ़ी सांपला स्थित छोटूराम स्मारक के निकट स्थित कालीदास धाम वर्षों से सियासी नेताओं के आकर्षण का केंद्र है। सूत्रों की मानें तो यहां के महंत बाबा कालीदास जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संपर्क में हैं, वहीं भाजपा के अन्य नेताओं के अलावा कांग्रेस के दिल्ली दरबार के नेता भी यहां हाजिरी लगाने से गुरेज नहीं करते हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को बुधवार दिल्ली से रोहतक आते समय कालीदास धाम पर रुकना था, लेकिन व्यस्तता के कारण वे वहां नहीं रुक सके। इसी दौरान गुरुवार सुबह बगैर किसी पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के शाह रोहतक से विशेष तौर पर कालीदास धाम पहुंचे। यहां उन्होंने पूजा-अर्चना करने के बाद धाम के प्रमुख बाबा कालीदास के साथ करीब दस मिनट तक का समय बिताया। शाह के इस दौरे की सियासी गलियारों में चर्चा है।

शाह की पत्नी सोनल बेन शाह ने बुधवार को रोहतक के दिंगबर जैन मंदिर में माथा टेका था। गुरुवार को वे कुरुक्षेत्र के भद्रकाली मंदिर पहुंची। यहां उन्होंने पूजा-अर्चना की। मंदिर के महंत ने विजयश्री का आशीर्वाद भी दिया। इसी बीच अमित शाह गुरुवार दोपहर हरियाणा मंत्रिमंडल की मौजूदगी में प्रदेश के धार्मिक गुरु, संत और सामाजिक कार्यकर्ताओं से रूबरू हुए। सीधा संवाद स्थापित करते हुए शाह ने कहा कि आदिकाल से वर्तमान तक संतों ने समाज और व्यवस्था को राह दिखाई है। हरि के इस प्रदेश में संतों की भूमिका सदैव मार्गदर्शक के तौर पर रही है। देश के इतिहास में भाजपा इकलौता ऐसा राजनीतिक संगठन है, जो संतों की विचारधारा को आत्मसात करते हुए न केवल राजनीतिक जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहा है, बल्कि सामाजिक विकास के लिए भी काम कर रहा है। भाजपा जमीन पर आम आदमी के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए संतों के दिखाए आदर्श पर आगे बढ़ रही है। उन्होंने धार्मिक गुरुओं से आग्रह किया कि वे सामाजिक व्यवस्था में देशहित मे लाए जा रहे बदलाव की प्रक्रिया के ध्वजवाहक बनें ताकि हम ऐसे समाज की रचना कर सकें, जो देश को विश्वगुरु बनाने में अहम योगदान दें।

इस अवसर पर महामंडलेश्वर डॉ स्वामी परमानंद, महामंडलेश्वर स्वामी कपिल पुरी, महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद, स्वामी कालिदास, स्वामी कर्णपुरी, स्वामी दिनेशानंद, साध्वी अमृता दीदी, संत निर्मलदास, बाबा कश्मीरा सिंह, महंत विजयगिरी, नारायण स्वरूप ब्रह्मगिरि, महंत किशनदास, स्वामी शाश्वतनंद, देवी मैत्रेयी आनंद, स्वामी प्रेमदास, महंत थानेश्वर, संत सोमप्रकाश, स्वामी कृष्णानंद, महंत चरणदास आदि मौजूद रहे।

’भाजपा अध्यक्ष ने हरियाणा में विभिन्न धार्मिक डेरों में नतमस्तक हो आगामी चुनाव में जीत का आशीर्वाद मांगा। उनके साथ पत्नी सोनल शाह भी थीं।
’गुरुवार सुबह बगैर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के वे रोहतक से विशेष तौर पर कालीदास धाम पहुंचे। यहां उन्होंने पूजा-अर्चना करने के बाद धाम के प्रमुख बाबा कालीदास के साथ करीब दस मिनट बिताए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग