ताज़ा खबर
 

Twitter पर सेना की उत्‍तरी कमांड से भिड़ गए कांग्रेस सांसद अमरिंदर सिंह

कश्‍मीर के बड़गाम में नवंबर 2014 के एक मामले में सेना के शामिल होने के मुद्दे पर अमरिंदर ने निशाना साधा।
Author चंडीगढ़ | July 25, 2016 18:38 pm
पंजाब के सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह। (फाइल फोटो)

लोकसभा सांसद और पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सोमवार को सेना की उत्‍तरी कमांड से भिड़ गए। कश्‍मीर के बड़गाम में नवंबर 2014 के एक मामले में सेना के शामिल होने के मुद्दे पर अमरिंदर ने निशाना साधा। सेना की उत्‍तरी कमांड ने अमरिंदर सिंह की ओर से आतंक रोधी ऑपरेशन में सेना के रोल पर लिखे एक ओपिनियन पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया कि उस मामले के लिए किसी जवान या अधिकारी का कोर्ट मार्शल नहीं किया गया और न ही किसी को कैद हुई। अमरिंदर ने अपने लेख में लिखा था कि कुछ सैन्‍य दस्‍तों पर बड़्रगाम मामले को लेकर कार्रवाई हो रही है। गौरतलब है कि दो साल पहले बड़गाम में एक कार के सेना की चेक पोस्‍ट पर न रुकने के बाद की गई गोलीबारी में दो लोगों की मौत हो गई थी।

सेना के ट्वीट का जवाब देते हुए अमरिंदर ने लिखा कि नौ सैनिकों को दोषी ठहराया गया है और कार्रवाई के जो सबूत हैं वे कोर्ट मार्शल की ओर ले जाएंगे। उन्‍होंने पूछा कि क्‍या यह जानकारी सही है। उन्‍होंने आगे पूछा कि चेक पॉइंट पर तैनात सैनिकों की क्‍या गलती थी और आतंक प्रभावित क्षेत्र में उन्‍हें क्‍या आदेश दिए गए थे। उन्‍होंने सैनिकों पर दोष मढ़ने पर भी सवाल उठाया। सेना को किए गए आखिरी ट्वीट में अमरिंदर ने कहा कि वे मानते हैं कि जम्‍मू कश्‍मीर में सेना मुश्किल काम कर रही है और उसे अपने सैनिकों के साथ खड़ा रहना चाहिए।

इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में उन्‍होंने कहा कि सैनिकों को बलि का बकरा बनाया जा रहा है। अमरिंदर ने कहा, ”पिछले दिनों भीड़ ने जवानों के एक दल से हथियार छीनने का प्रयास किया जिसके चलते जवानों को फायरिंग कर खुद को बचाना पड़ा। इसमें लोगों की जान गई। सेना की नॉर्दर्न कमांड ने उसके लिए भी माफी मांगी थी। क्‍यों? सेक्‍शन कमांडर के पास क्‍या विकल्‍प था? क्‍या वे हथियार छीनने देते।” उन्‍होंने कहा कि जम्‍मू कश्‍मीर में विद्रोह और आतंकवाद आईएसआई की योजना है। जब तक आईएसआई की कमर नहीं तोड़ी जाएगी यहां शांति नहीं लाई जा सकती।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग