December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं कैप्टन और बादल : केजरीवाल

कैप्टन की पत्नी और बेटे के स्विस बैंक खाते का नंबर लोगों को बताते हुए केजरीवाल ने दावा किया कि साल 2007 तक हर महीने उन खातों में पैसे जमा हुए हैं।

Author जलंधर | November 27, 2016 05:54 am
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने पंजाब में कैप्टन और बादल पर आपस में मिल कर चुनाव लड़ने का आरोप लगाया है। उन्होंने शनिवार को कहा कि दोनों दलों से उब चुकी सूबे की जनता अब बदलाव चाहती है। इसलिए लोग आम आदमी पार्टी (आप) की ओर देख रहे हैं।जलंधर जिले के मेहतपुर इलाके में एक रैली को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘पंजाब की आवाम कैप्टन अमरिंदर सिंह (कांग्रेस) और प्रकाश सिंह बादल (शिअद) से उब चुकी है। इसलिए इस बार विधानसभा चुनाव में वह बदलाव चाहती है। यही कारण है कि यहां की आवाम का भरोसा और विश्वास आम आदमी पार्टी के प्रति बढ़ता ही जा रहा है।’ केजरीवाल ने कहा, ‘लोगों को पता है कि कैप्टन और बादल परिवार ने बारी-बारी से पंजाब को लूटने का ही काम किया है। इसलिए राज्य में अब बदलाव की हवा है और यह आप के समर्थन में है।

क्योंकि हम जहां भी जाते हैं हजारों की संख्या में लोग हमें सुनने आते हैं। हम बहुत छोटे लोग हैं फिर भी लोग आ रहे हैं।’ आप संयोजक ने कहा, ‘पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह और बादल में सांठगांठ है। यही कारण है कि दोनों मिल कर प्रदेश में चुनाव लड़ रहे हैं। दोनों नेताओं में मिलीभगत है क्योंकि दोनों में समझौता हो चुका है कि प्रदेश को पांच साल कैप्टन लूटेंगे और पांच साल बादल। पिछले 15 साल से दोनों ने मिल कर सूबे को जमकर लूटा है।’ केजरीवाल ने आरोप लगाया, ‘वर्ष 2002 तक कैप्टन अमरिंदर के पास घर की पुताई कराने तक के पैसे नहीं थे। फिर वह मुख्यमंत्री बने और जुलाई 2005 में उनकी पत्नी परनीत कौर और बेटे रणिंदर के नाम स्विस बैंक में खाता खुला और पंजाब को लूट कर उसमें जमकर रुपया जमा किया गया।’ कैप्टन की पत्नी और बेटे के स्विस बैंक खाते का नंबर लोगों को बताते हुए केजरीवाल ने दावा किया कि साल 2007 तक हर महीने उन खातों में पैसे जमा हुए हैं। अगर वह गलत कह रहे हैं तो कैप्टन उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाएं। केजरीवाल ने कहा, ‘वह (अमरिंदर) मुकदमा दर्ज नहीं करवाएंगे क्योंकि उन्हें पता है कि यह 100 फीसद सच बात है। बादलों के साथ उनकी सांठगांठ है इसलिए वह पकडेÞ भी नहीं जाएंगे।’

उन्होंने कहा, ‘कैप्टन और बादल में मिलीभगत नहीं होती तो कैप्टन के खिलाफ सारे मामले बंद नहीं कर दिए जाते। मुख्यमंत्री केंद्र सरकार से कह कर कैप्टन के खिलाफ कार्रवाई करवाते लेकिन ऐसा नहीं हो सकता है क्योंकि मोदी सरकार से पहले केंद्र की कांग्रेस सरकार ने बिक्रम मजीठिया के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की थी इसके बदले कैप्टन के खिलाफ भी कोई कार्रवाई नहीं होगी।’

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 27, 2016 5:53 am

सबरंग