ताज़ा खबर
 

चलती मेट्रो में हुआ कवि सम्मेलन, तीन भाषाओं में सुनाई गईं कविताएं

चलती रैपिड मेट्रो में कविताएं पढ़ना और दर्शकों की वाहवाही लूटने वाला अनूठा नजारा रविवार को दिखाई दिया।
Author गुरुग्राम | June 6, 2016 01:36 am
मेट्रो।

चलती रैपिड मेट्रो में कविताएं पढ़ना और दर्शकों की वाहवाही लूटने वाला अनूठा नजारा रविवार को दिखाई दिया। इस दौरान शहर और बाहर के कवियों ने हिंदी, पंजाबी व अंगे्रजी में लिखी गई कविताओं का पाठ किया।

रैपिड मेट्रो गुड़गांव ने दिल्ली स्थित संस्था पोयट्स कलेक्टिव के साथ अपनी तरह की पहली पोएट्री एक्सपे्रस चलाई। इस मौके के लिए रैपिड मेट्रो की एक बोगी को रिजर्व किया गया जिसके दरवाजे सील कर दिए गए ताकि श्रोता आराम से कविता का आनंद उठा सकें। बोगी के बीचोंबीच एक मंचनुमा जगह बनाई गई जहां कवियों ने काव्यपाठ किया। इस बोगी में 70 से अधिक श्रोताओं ने सीटों और फर्श पर बैठकर कविताओं का आनंद लिया। पोयट्स कलेक्टिव की संस्थापक सौम्या कुलश्रेष्ठ ने कहा कि हमारे कवि इधर-उधर लुढ़क रहे थे पर सब लोग घंटों एकसाथ बैठे रहे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.