March 24, 2017

ताज़ा खबर

 

पाकिस्तानी हैकर करते रहे पीसीआर सिस्टम को हैक करने की कोशिश, दिल्ली पुलिस ने कहा- तुमसे न हो पाएगा

दिल्ली पुलिस ने इन साइबर हमलों के मद्देनजर अपने सिस्टम और जीपीएस की सुरक्षा और बढ़ा दी है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

उरी आतंकी हमले के बाद भारत द्वारा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक का असर न केवल जमीन पर बल्कि डिजिटल दुनिया में भी दिख रहा है। 29 सितंबर को हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से जहां जम्मू-कश्मीर में कई आतंकी हमले हो चुके हैं, आधा दर्जन से अधिक बार नियंत्रण रेखा पर संघर्ष-विराम का उल्ंलघन हो चुका है वहीं पाकिस्तानी हैकर लगातार भारतीय कंपनियों और संस्थाओं की वेबसाइट हैक करने की कोशिश कर रहे हैं। गुरुवार (13 अक्टूबर) को पाकिस्तानी हैकरों का एक गुट दिल्ली पुलिस के कंट्रोल रूम को हैक करने की लगातार कोशिश करता रहा लेकिन वो अपने मंसूबों में कामयाब नहीं पाया। दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया को बताया कि “हमारा सिस्टम ऐसा है कि ऐसे हैकर उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकते। हैकर दिल्ली पुलिस के कंट्रोल रूम को हैक करने की लगातार कोशिश करते लेकिन वो कभी कामयाब नहीं हो पाएंगे।”

वीडियो: आम आदमी पार्टी के 27 विधायकों पर लटकी तलवार- 

दिल्ली पुलिस के अनुसार जर्मनी और रूस में स्थित कुछ हैकरों ने ये साइबर हमले किए थे। पुलिस ने उनके आईपी एड्रेस ब्लॉक करा दिया। हालांकि दिल्ली पुलिस ने इन साइबर हमलों के मद्देनजर अपने सिस्टम और जीपीएस की सुरक्षा और बढ़ा दी है। खुद को “पाकिस्तान साइबर आर्मी” बताने वाला हैकरों का इस गुट ने ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) सर्वर और कुछ भारतीय राज्यों की पुलिस पीसीआर को हैक करने का दावा किया था। भारतीय साइबर विशेषज्ञों के अनुसार हैकरों ने जीपीएस सिस्टम पर हमला करने की कोशिश की थी लेकिन वो विफल रहे। दिल्ली पुलिस के सर्वर पर इस साल 26 जनवरी से पहले भी हैकरों ने हमला किया था जिसे विफल कर दिया गया था। जनवरी में साइबर हमले की भनक लगते ही दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने सुरक्षा की दृष्टि से तत्काल अपनी वेबसाइट बंद कर दी। कुछ घंटों के बाद उसे दोबारा शुरू किया गया।

गुरुवार को ही खबर आई कि हैदराबाद में 50 से अधिक आईटी कंपनियों पर पिछले 10 दिनों में पाकिस्तानी हैकरों ने कई बार साइबर हमला किया। पाकिस्तानी हैकर “रैनसमवेयर” के जरिए सूचनाएं चुरा रहे हैं और डिक्रिप्शन की लौटाने के लिए ‘बिट क्वाइन’ मांग रहे हैं। साइबर सिक्योरिटी फोरम के अधिकारियों के अनुसार पाकिस्तानी हैकरों ने तुर्की, सोमालिया और सऊदी अरब स्थित सर्वरों का इस्तेमाल करके भारतीय कंपनियों पर साइबर हमला किया। हाल ही में पाकिस्तानी हैकरों के एक गुट ने भारत की सर्जिकल स्ट्राइक का “बदला” लेने के लिए 7000 भारतीय कंपनियों को हैक करने का दावा किया था। पाकिस्तानी साइबर हमले की शिकार हुई ज्यादातर कंपनियां वित्त क्षेत्र से जुड़ी हुई हैं। साइबर अधिकारी के अनुसार हैक की गई एक कंपनी से हैकरों ने बदले में एक लाख बिट क्वाइन (करीब 420 करोड़ रुपये) मांगे थे।

Read Also: पाकिस्तानी हैकरों ने हैदराबाद की 50 से अधिक आईटी कंपनियों पर किया साइबर हमला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 14, 2016 7:30 pm

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग