December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

भारतीय टीवी कार्यक्रमों पर पाक की पाबंदी दुर्भाग्यपूर्ण

भारत ने भारतीय टीवी और रेडियो कार्यक्रमों पर पाकिस्तान के प्रतिबंध को आज दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया और कहा कि यह पड़ोसी देश के आत्मविश्वास की कमी को दिखाता है।

Author नई दिल्ली | October 21, 2016 01:25 am

भारत ने भारतीय टीवी और रेडियो कार्यक्रमों पर पाकिस्तान के प्रतिबंध को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया और कहा कि यह पड़ोसी देश के आत्मविश्वास की कमी को दिखाता है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘यह पाकिस्तान की ओर से आत्मविश्वास की कमी दिखाता है। यह दुर्भाग्यपूर्ण घटनाक्रम है।’ भारत-पाक में तनाव के बीच पाकिस्तान के मीडिया नियामक प्राधिकरण ने घोषणा की थी कि शुक्रवार से भारतीय टीवी और रेडियो कार्यक्रमों पर रोक लगाई जाएगी। उसने चेतावनी दी कि प्रतिबंध का उल्लंघन करने के दोषी लोगों के लाइसेंस निलंबित कर दिए जाएंगे। प्रतिबंध पाकिस्तान में केबल और रेडियो पर प्रसारित हो रहे सभी भारतीय कार्यक्रमों पर लागू है। प्राधिकरण ने पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ की सरकार द्वारा 2006 में भारतीय मीडिया को दिये गये एकपक्षीय अधिकारों को निरस्त करने का भी फैसला किया। स्वरूप ने कहा कि भारत में पाकिस्तानी कलाकारों की प्रस्तुति पर कोई पाबंदी नहीं है।


उन्होंने उड़ी हमले के बाद पाकिस्तान के कलाकारों पर रोक लगाने की मांग के संदर्भ में कहा, ‘जहां तक भारत सरकार की बात है तो पाकिस्तानी कलाकारों पर पूरी तरह कोई पाबंदी नहीं है। मौजूदा माहौल को देखते हुए और सुरक्षा संबंधी विचारों और स्थानीय आयोजकों की भावनाओं को संज्ञान में लेकर हम मामला दर मामला इस बारे में तय करेंगे।’
क्या सरकार दक्षेस से पाकिस्तान के अलग होने की दिशा में किसी योजना पर काम कर रही है, इस पर स्वरूप ने कहा कि भारत क्षेत्रीय समूह और उसके सिद्धांतों पर प्रतिबद्ध है।
उन्होंने कहा कि सरकार की प्राथमिकता हमारे क्षेत्र में करीबी सहयोग और आर्थिक एकीकरण को बढ़ावा देने की है।
किसी देश या क्षेत्र को आतंकवाद से नहीं जोड़ने के चीन के रुख पर प्रवक्ता ने कहा कि हम सभी को पता है कि हमारे क्षेत्र में कौन सा देश आतंकवाद का केंद्र है। इस बारे में कोई संदेह नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 1:24 am

सबरंग