ताज़ा खबर
 

सरकार ने रद्द किए 11 हजार से ज्यादा एनजीओ, जानिए क्या थी इन NGOs की गड़बड़ियां

सरकार ने 11,000 से अधिक एनजीओ की मान्यता समाप्त कर दी है। ये एनजीओ जून के अंत तक अपने पंजीकरण का नवीकरण कराने में विफल रहे थे।
Author नई दिल्ली | November 5, 2016 04:44 am
केंद्रीय ग्रहमंत्री राजनाथ सिंह

सरकार ने 11,000 से अधिक एनजीओ की मान्यता समाप्त कर दी है। ये एनजीओ जून के अंत तक अपने पंजीकरण का नवीकरण कराने में विफल रहे थे। मान्यता समाप्त होने से ये एनजीओ विदेश से धन प्राप्त नहीं कर सकेंगे। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि उसने उन 11,319 संगठनों का पंजीकरण रद्द कर दिया है जिन्होंने इस साल 30 जून तक एफसीआरए के तहत पंजीकरण के नवीकरण के लिए आवेदन नहीं किया था। उनके पंजीकरण की वैधता एक नवंबर, 2016 से समाप्त मानी जाएगी। इस सूची में करीब 50 अनाथालय, सैकड़ों स्कूल और संस्थान जैसे भारतीय सांख्यिकी संस्थान और समाज के वंचित बच्चों के लिए काम करने वाले प्रतिष्ठित एनजीओ शामिल हैं।

 

 

वर्ष 2015 में गृह मंत्रालय ने 10,000 गैर सरकारी संगठनों के एफसीआरए पंजीकरण इसलिए रद्द किए थे क्योंकि इन्होंने लगातार तीन वर्षों के अपने सालाना रिटर्न दाखिल नहीं किए थे। इनमें से कई एनजीओ निष्क्रिय थे या किसी भी मामले में एफसीआरए पंजीकरण नहीं चाहते थे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    rblnigam
    Nov 6, 2016 at 7:35 am
    अभी भी अनेको ऐसे एनजीओस है जो एक बकरी या दस बच्चों को पाठ्यक्रम वितरित कर 100 बच्चों के वितरण के बिल खातों में डाल मालपुए खा रहे हैं। दसवीं कक्षा के विधार्थियों को नया पाठ्यक्रम देने से पूर्व उनसे नवीं कक्षा की पुस्तकें लेकर नवी कक्षा से विद्यार्थी को वितरित कर दी जाती हैं और खातों में दर्ज होता होती हैं नई पुस्तकें। देते एक परिवार को बकरी हैं खातों में जाती है, "10 बकरियाँ 10 परिवारों में वितरित की", सरकार से मिली गरीबों के उत्थान के मिली राशि का कितना दुरूपयोग हो रहा है,
    (0)(0)
    Reply