ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री के जूते लेकर पीछे चल रहा था पीए, तस्वीर हुई वायरल

जुअल ने जब जूते पहनने से इनकार कर दिया तो उनके पीए निरंजन बेहरा को जूते उठाकर उनके साथ-साथ चलना पड़ा।
Author भुवनेश्वर | November 7, 2017 12:48 pm
यह तस्वरी सोमवार की है जब जुअल कार्यकर्ताओं की बैठक में शरीक होने के लिए जा रहे थे। (Photo Source: Agencies)

ओडिशा में एक बहुत ही हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है जहां पर एक मंत्री का पीए उनके जुत्तों को पीछे-पीछे लेकर चलता हुआ दिखाई दिया। वैसे तो बीजेपी के वरिष्ठ नेता और आदिवासी मामलों के मंत्री जुअल ओराम अक्सर अपने बयानों को लेकर मीडिया की सुर्खियों में बने रहते हैं लेकिन इस बार वे गलत कारणों से सुर्खियों में आए हैं। सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही है जिसमें जुअल नंगे पैर चलते हुए दिखाई दे रहे हैं और उनके साथ चल रहे एक व्यक्ति के हाथ में उनके जूते हैं जो कि जुअल का पीए बताया जा रहा है। डेक्कन कॉनिक्ल के अनुसार यह तस्वीर सोमवार की है जब जुअल कार्यकर्ताओं की बैठक में शरीक होने के लिए जा रहे थे।

इस बैठक में कोरापुट संसदीय क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ता आए थे। बैठक से पहले मंत्री और अन्य पार्टी नेता भगवान शिव से आर्शिवाद लेने के लिए पहुंचे जहां उन्होंने मंदिर के बाहर अपने जूते उतार दिए। मंदिर में प्रार्थना करने के बाद जुअल बिना जूते पहने ही बैठक के लिए निकल पड़े जो कि मंदिर से केवल 100 मीटर की दूरी पर कल्याण मंडप में आयोजित की गई थी। जुअल ने जब जूते पहनने से इनकार कर दिया तो उनके पीए निरंजन बेहरा को जूते उठाकर उनके साथ-साथ चलना पड़ा। कल्याण मंडप पर पहुंचने के बाद बेहरा ने मंत्री को दिए जिन्हें जुअल ने बैठक में पहना।

मंत्री जुअल के अलावा इस बैठक में गिरिधर गमंग, जयराम पंगी, भृगू बक्शीपात्र जैसे वरिष्ठ नेता शामिल थे। आपको बता दें कि इससे पहले जुअल उस समय सुर्खियों में छा गए थे जब उन्होंने अपने एक स्टाफ को सबके सामने थप्पड़ जड़ दिया था। इस साल भुवनेश्वर में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक रखी गई थी जिसमें उन्होंने सिद्धार्थ मोहपात्रा को इसलिए थप्पड़ मार दिया था क्योंकि उसने मंत्री का समय पर फोन नहीं उठाया था। इस मामले पर मंत्री ने कहा था कि मीडिया में गलत खबर दिखाई जा रही हैं और ऐसा कुछ नहीं हुआ था। उन्होंने कहा था कि मैंने थप्पड़ नहीं मारा था बस हलका सा ढक्का मारा था।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. N
    NK
    Nov 7, 2017 at 2:57 pm
    यह एक आधुनिक गुलामी का उत्तम उदहारण है. बस पैटर्न बदल गया है, लेकिन मानसिकता सामंती ही है. जय भारत !
    (1)(0)
    Reply