ताज़ा खबर
 

सुदर्शन पटनायक ने मॉस्को सैंड आर्ट चैंपियनशिप में जीता गोल्ड, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज करा चुके हैं नाम

इस प्रतियोगिता में दुनियाभर के 25 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था जिनमें सुदर्शन ने भारत का प्रतिनिधित्व किया था।
पिछले साल मॉस्को में वर्ल्ड पीस पर आयोजित प्रतियोगिता में सुदर्शन ने स्वर्ण पदक जीता था।

ओडिशा के रहने वाले सैंड आर्टिस्ट सुदर्शन पटनायक अपनी कला से पहले ही देश का नाम रोशन कर चुके है। अब सदर्शन को उनकी बेहतरीन कला के लिए दसवीं मॉस्को सैंड आर्ट चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक दिया गया है। रूस के कोलोमेनस्कोय में 22 से 28 अप्रैल के बीच आर्ट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। इस प्रतियोगिता में दुनियाभर के 25 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था जिनमें सुदर्शन ने भारत का प्रतिनिधित्व किया था। इस कार्यक्रम के मुख्य आयोजक पवेल मेनीकोव द्वारा सुदर्शन पटनायक ने अवॉर्ड प्राप्त किया। इससे पहले पिछले साल मॉस्को में वर्ल्ड पीस पर आयोजित प्रतियोगिता में सुदर्शन ने स्वर्ण पदक जीता था।

आपको बता दें कि बालू से बनी अपनी कृतियों के लिए जाने जाए जानेवाले सुदर्शन गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी अपना नाम दर्ज करा चुके है। हाल ही में ओडिशा के पुरी में समुंद्र के किनारे सुदर्शन ने एक बालू का किला बनाया था, जिसके लिए उन्हें गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जगह मिली।सुदर्शन के जीवन की बात करें तो उन्होंने आठ साल की उम्र में स्कूली शिक्षा छोड़ दी थी क्योंकि उनके परिवार की कमाई केवल 200 रुपए थी। वे तीन भाईयों में सबसे बड़े है। घर चलाने के लिए उन्होंने नौकरी की और उसके बाद उन्होंने अपनी कला को फिर से जगाया। उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनके पिता उसके परिवार को छोड़कर चले गए थे और केवल उनकी दादी की पेंशन से ही घर चलता था।

उन्होंने बताया था कि उन्होंने अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए काफी मेहनत की जिसके परिणामस्वरूप उनकी कला के द्वारा उन्हें इतना नाम मिला। पुरी के बीच पर सुदर्शन ने मूर्ति बनाने का काम शुरु किया तो लोगों से उन्हें अच्छी प्रतिक्रियाएं मिलने लगी। वहां घूमते पर्यटक उन्हें कुछ सलाह देते तो वे उनपर अमल कर अपनी कृतियों को और भी अच्छे से निखारने लगते थे। सुदर्शन की कला को जितनी देश में पहचान मिली है उससे कहीं ज्यादा उन्हें विदेशों से सराहना मिली।

देखिए वीडियो - ओडिशा: नक्सलियों ने डोइकल्लू स्टेशन पर किया हमला, छोड़ गए पीएम मोदी के दौरे के विरोध में पोस्टर्स

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.