May 23, 2017

ताज़ा खबर

 

रोज वैली ग्रुप चिटफंड मामला: सुदीप बंदोपाध्याय को मिली जमानत, 17,000 करोड़ के घोटाले में शामिल होने का है आरोप

घोटाले में कथित रूप से शामिल होने के लिए सीबीआई ने तृणमूल के एक अन्य सांसद तापस पाल को भी गिरफ्तार किया था।

Author May 19, 2017 21:27 pm
टीएमसी सांसद सुदीप बंदोपाध्‍याय। (FILE PHOTO)

उड़ीसा हाई कोर्ट ने रोज वैली ग्रुप चिटफंड घोटाले में कथित तौर पर शामिल होने के लिए गिरफ्तार तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बंदोपाध्याय को शुक्रवार (19 मई) को सशर्त जमानत दी। न्यायमूर्ति जेपी दास की पीठ ने बंदोपाध्याय को किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक में 25 लाख रूपये जमा करने और 50,000-50,000 रूपये के मुचलके जमा करने के बाद जमानत की अनुमति दी।

सशर्त जमानत में सांसद से कहा गया है कि वह निचली अदालत में अपना पासपोर्ट जमा करवाए और जब भी जरूरत हो जांच अधिकारी के साथ सहयोग करे। अभियोजन और बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने आठ मई को उनकी जमानत याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

सीबीआई ने 17,000 करोड़ रूपये के रोज वैली चिटफंड घोटाले में कथित भागिदारी के लिए बंदोपाध्याय को तीन जनवरी को गिरफ्तार किया था। सीबीआई, सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इस घोटाले की जांच कर रही है। बंदोपाध्याय के अधिवक्ता ने कहा कि उनके मुवक्किल इस घोटाले में शामिल नहीं हैं। उन्होंने कहा कि बंदोपाध्याय गंभीर रूप से बीमार हैं इसलिए उन्हें जमानत दी जानी चाहिए।

घोटाले में कथित रूप से शामिल होने के लिए सीबीआई ने तृणमूल के एक अन्य सांसद तापस पाल को भी गिरफ्तार किया था। एजेंसी ने रोज वैली के अध्यक्ष गौतम कुंदू और तीन अन्य पर आरोप लगाया था कि उन्होंने देशभर में निवेशकों को 17,000 करोड़ रूपये की चपत लगाई है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रोज वैली चिट फंड घोटाले में अपनी पार्टी के सांसद सुदीप बंदोपाध्याय को उड़ीसा हाई कोर्ट से मिली सशर्त जमानत का स्वागत करते हुए कहा,‘‘वह (बंदोपाध्याय) अपने पूरे जीवन में जुझारू रहे हैं। उनका वजन काफी कम हो गया है। वह बीमारियों से ग्रसित हैं। मैं चाहती हूं कि वह जल्द वापस आएं और उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करती हूं।’’

गौरतलब है कि न्यायमूर्ति जेपी दास की पीठ ने 25 लाख रूपया किसी राष्ट्रीयकृत बैंक में जमा करने और 50,000 रूपये के दो मुचलके की राशि भरने के बाद उन्हें जमानत पर जाने की इजाजत दे दी है। बंदोपाध्याय को 17,000 करोड़ रूपये की रोज वैली चिट फंड मामले में कथित संलिप्त्ता को लेकर तीन जनवरी को सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के तहत सीबीआई इसकी जांच कर रही है।

बंदोपाध्याय के वकील ने घोटाले में उनके शामिल नहीं होने की दलील देते हुए उड़ीसा हाई कोर्ट से कहा कि वह गंभीर रूप से बीमार हैं और इसलिए उनकी जमानत मंजूर की जानी चाहिए।

देखिए वीडियो - चिट फंड स्कैम में टीएमसी सांसद सुदीप बंदोपाध्याय गिरफ्तार; ममता बनर्जी बोलीं- ‘पीएम मोदी को गिरफ्तार करना चाहिए’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 19, 2017 9:25 pm

  1. No Comments.

सबरंग