ताज़ा खबर
 

ओडिशा: डिलिवरी के लिए गए थे प्राइवेट हॉस्पिटल, बिल देने के नहीं थे पैसे तो 12 हजार में बेच दी नवजात बच्ची

नर्सिंग होम और नवजात बच्ची को खरीदने वाले शख्स के खिलाफ पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज कराई है।
प्रतीकात्मक तस्वीर

ओडिशा में एक गरीब दंपति को अपना नवजात शिशु उस समय बेचना पड़ गया जब उनके पास प्राइवेट हॉस्पिटल का लंबा-चौड़ा बिल चुकाने के पैसे नहीं थे। यह हॉस्पिटल केंद्रपाड़ा जिले में स्थित है। जानकारी के मुताबिक, निराकार मोहराना और उनकी पत्नी गीतारानी जिले के रिघागाड़ा गांव के रहने वाले हैं। सोमवार को वो अपने तीसरे बच्चे की डिलिवरी के लिए जिला मुख्यालय अस्पताल गए थे। उन्हें डॉक्टर्स और गांव की आशा कर्यकत्री ने प्राइवेट हॉस्पिटल जाने की सलाह दी थी, क्योंकि गीतारानी को डिलिवरी में समस्या हो सकती थी। गुरुवार को प्राइवेट नर्सिंग होम में बच्ची का जन्म हुआ। डिलिवरी के बाद हॉस्पिटल ने दंपति से 7500 रुपए मांगे।

गरीबी के कारण वो पैसों का बंदोबस्त नहीं कर पाए। इसलिए हॉस्पिटल उनकी नवजात संतान को 12 हजार रुपए में एक अन्य दंपति को बेचने के लिए तैयार हो गया। दंपति ने जब इस घटना के बारे में गांव वालों को बताया तो उन्हें पुलिस से संपर्क करने की सलाह दी गई। निरंकार और गीतारानी ने नर्सिंग होम और नवजात बच्ची को खरीदने वाले शख्स के खिलाफ केंद्रपारा टाउन पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज कराई है।

केंद्रपारा एसपी दयानिधि गोचायत ने कहा, “एफआईआर दर्ज होने के बाद किशोर न्याय अधिनियम की धारा 372 (गैरकानूनी और अनैतिक उद्देश्य के लिए छोटे बच्चे की बिक्री) और 81 के तहत मामला दर्ज किया गया है।” वहीं, आशा कार्यकत्री अनुपूर्णा का कहना है कि “दंपति की पहले से दो बेटियां थीं। तीसरी बेटी के जन्म होने के बाद उन्होंने उसे नर्सिंग होम में ही त्याग देने का फैसला किया था। हालांकि मैने मना किया था। बाद में एक बेऔलाद दंपति ने कुछ पैसे देकर उसे अपना लिया था।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.