December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

ओडिशा: बैंक से 1.15 करोड़ रुपए की लूट, सारे नोट 500 और 1000 के थे

ओडिशा के ग्राम्य बैंक की शाखा से 1.15 करोड़ रुपये लूटे गए। लूटे गए सारे नोट 500 और 1000 रुपए के थे जो कि केंद्र सरकार द्वारा अमान्य करार किए जा चुके हैं।

500 और 1000 के नोट की तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर किया गया है।

ओडिशा के ग्राम्य बैंक की शाखा से 1.15 करोड़ रुपये लूटे गए। लूटे गए सारे नोट 500 और 1000 रुपए के थे जो कि केंद्र सरकार द्वारा अमान्य करार किए जा चुके हैं। धेनकनाल टाउन थाने के प्रभारी इंस्पेक्टर अभिनव दलुआ ने बताया कि दो दिन की छुट्टी के बाद जब सोमवार (21 नवंबर) को बैंक खुला तो यह मामला प्रकाश में आया। उन्होंने बताया कि बैंक में आठ करोड़ रुपये मूल्य के पुराने नोट थे, जिसमें से 1.15 करोड़ लापता पाए गए हैं। पुलिस ने इसे अंजाम देने वालों को गिरफ्तार करने के लिए विशेष दलों का गठन किया है। सीनियर पुलिस ऑफिसर बसंत कुमार ने कहा, ‘हमें लगता है कि बैंक में काम करने वाले किसी कर्मचारी की मदद से इस घटना को अंजाम दिया गया है।’ बैंक में कुल 8.85 करोड़ रुपए रखे गए थे लेकिन उनमें से 1.15 करोड़ रुपए ही लूटे गए। बैंक पुलिस स्टेशन के पास में ही है फिर भी उसे लूट लिया गया।

पुलिसवालों का आरोप है कि बैंकों की छोटी ब्रांच को इतना पैसा रखने की इजाजत नहीं है। ज्यादा पैसा होने पर पैसे को मुख्य दफ्तर भेजना होता है और पुलिस को इसकी जानकारी देनी होती है लेकिन बैंक ने पुलिस को पैसे की कोई जानकारी नहीं दी थी। बैंक मैनेजर ने अपनी सफाई में कहा कि उसने भुवनेश्वर में मुख्य ब्रांच को पैसों के बारे में बता दिया था लेकिन बैंक की मशीनें खराब होने की वजह से नोटों की गिनती नहीं हुई थी। इसलिए मैनेजर से कैश को सोमवार के दिन भेजने का सोचा था।

ऐसी ही एक घटना कश्मीर में भी हुई। वहां चार नकाबपोश लोगों ने कश्मीर के बैंक से 13 लाख रुपए लूट लिए। लूटे गए वे नोट भी पुराने थे। गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा 8 नवंबर को नोटबंदी का ऐलान किया गया था। उसमें बताया गया था कि 500 और 1000 के नोट 30 दिसंबर 2016 के बाद से नहीं चला करेंगे। इसके साथ ही 2000 और 500 रुपए के नए नोटों के आने की जानकारी भी दी गई थी।

इस वक्त की ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

वीडियो: कश्मीर में मारे गए आतंकियों के पास से मिले नए 2000 के नोट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 22, 2016 4:39 pm

सबरंग