ताज़ा खबर
 

ओडिशा: ढाई महीने से हाथी के बच्चे के पैर में फंसा था टायर, 50 लोगों ने तीन घंटे की मशक्कत के बाद निकाला

ओडिशा विश्वविद्यालय ऑफ एग्रीकल्चर के प्रोफेसर के नेतृत्व में एक पशु चिकित्सक अधिकारी की टीम ने हाथी के पैर से टायर निकाला।
Author भुवनेश्वर | April 4, 2017 17:47 pm
अधिकारी ने कहा कि यह हमारे लिए बहुत ही मुश्किल काम था।

ओडिशा में पिछले ढाई महीने से 13 साल के एक हाथी के बच्चे के बाएं पैर में फंसे स्कूटर के टायर को वन अधिकारियों ने निकाल दिया है। यह हाथी काफी समय से दर्द के कारण परेशान हो रहा था। यह हाथी का बच्चा ओडिशा के दो वनों के बीच लंगड़ाते हुए घूम रहा था। करीब 50 अधिकारियों ने मिलकर तीन घंटे की मशक्कत के बाद छोटे हाथी के पैर से टायर निकाला। यह मामला सुभाशी रिजर्व फॉरेस्ट का है जो कि अथागढ़ वन के विभाजन में पड़ता है। पैर में फंसे टायर को निकालने के बाद हाथी का अच्छे से उपचार किया गया और बाद में उसे जंगल में घूमने के लिए छोड़ दिया गया।

वन विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि यह हमारे लिए बहुत ही मुश्किल काम था। हाथी के बच्चे के पैर से टायर निकालने के बाद हम बहुत ही अच्छा महसूस कर रहे हैं। ओडिशा विश्वविद्यालय ऑफ एग्रीकल्चर के प्रोफेसर के नेतृत्व में एक पशु चिकित्सक अधिकारी की टीम ने हाथी के पैर से टायर निकाला। अधिकारी ने बताया कि जनवरी में दुर्घटनावश हाथी का पैर वन में पड़े स्कूटर के टायर में फंस गया था, जिसे निकालने की उसने बहुत कोशिश की लेकिन वह कामयाब नहीं हो पाया।

एक अधिकारी ने बताया कि 24 जनवरी को वन के अथागढ़ा विभाजित क्षेत्र में इस हाथी को पहली बार देखा गया था। हाथी पैर में फंसे इस टायर के न निकलने के कारण पागल सा हो गया था। जब एक अधिकारी ने इस हाथी को देखा तो उसने अधिकारी पर ही हमला कर दिया। गंभीर रूप से घाटल अधिकारी को एक दिन अस्पताल में रहना पड़ा था। इसके बाद हाथी फिर गायब हो गया। पैर में फंसे टायर के साथ एक महीने पहले हाथी ने भुवनेश्वर स्थित चंदाकाडोम्पाड़ा वाइल्ड लाइफ सैंचुरी को पार कर लिया था। कई अधिकारी उसे ढूंढने की कोशिश कर रहे थे लेकिन वह अधिकारियों के साथ लुक्का-छिप्पी का खेल खेलता रहा। काफी समय के बाद ये हाथी अधिकारियों के हाथ लगा और उन्होंने ऑपरेशन कर उसके पैर से टायर निकाला।

देखिए वीडियो - ओडिशा: नक्सलियों ने डोइकल्लू स्टेशन पर किया हमला, छोड़ गए पीएम मोदी के दौरे के विरोध में पोस्टर्स

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.