December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

ओडिशा के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अतानु सव्‍यसाची नाइक ने इस्‍तीफा दिया

उन्‍होंने भुवनेश्‍वर के सम अस्‍पताल में आग लगने से 24 लोगों की मौत के चलते पद छोड़ा है। भुवनेश्वर के इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड एसयूएम हॉस्पिटल में 17 अक्‍टूबर को शाम को आग लग गई थी।

ओडिशा के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अतानु सव्‍यसाची नाइक ने इस्‍तीफा दे दिया है।

ओडिशा के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री अतानु सव्‍यसाची नाइक ने इस्‍तीफा दे दिया है। उन्‍होंने भुवनेश्‍वर के सम अस्‍पताल में आग लगने से 24 लोगों की मौत के चलते पद छोड़ा है। भुवनेश्वर के इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड एसयूएम हॉस्पिटल में 17 अक्‍टूबर को शाम को आग लग गई थी। आग शॉर्ट सर्किट के चलते लगी थी। इस घटना के चलते मुख्‍यमंत्री नवीन पटनाइक के नेतृत्‍व वाली सरकार की काफी आलोचना हुई थी। इस मामले में चार कर्मचारियों को निलंबित कर दिया था। वहीं 100 से अधिक मरीज अन्य अस्पतालों में भेज दिए गए। आग से आईसीयू और डायलिसिस यूनिट के उपकरण बुरी तरह नष्ट हो गए। चार मंजिले सम अस्पताल में ज्यादातर मौतें दम घुटने से हुईं। सम अस्पताल में लगी आग में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बुधवार को पांच-पांच लाख रुपए की अनुग्रह राशि का ऐलान किया । इससे पहले पटनायक ने भुवनेश्वर और कटक के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती अग्नि पीड़ितों के नि:शुल्क उपचार की घोषणा की थी।

बर्ड फ्लू का कहर! दिल्ली के चिड़ियाघर के बाद, अब डियर पार्क को भी बंद किया गया:

विपक्षी कांग्रेस ने पीड़ितों के सभी परिवारों के लिए 25-25 लाख रुपए का मुआवजा देने की मांग की थी। अस्पताल के प्रथम तल पर अचानक आग लगी थी तब 26 वर्षीय बैना बहेरा डायलायसिस करा रहे थे। आज वह अपने आप को जिंदा पाकर बड़ा भाग्यशाली मानते हैं। ओड़िशा मे पुरी जिले के पिपली थानाक्षेत्र के मंगलापुर गांव के बाशिंदे बहेरा ने बताया कि वह घने धुंआ और आग से बचकर निकल जाने को लेकर वाकई सौभाग्यशाली है जबकि करीब दर्जन भर अन्य व्यक्तियों ने वहां से निकाले जाने तक इंतजार किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 7:58 pm

सबरंग