June 23, 2017

ताज़ा खबर
 

नोटबैन के बाद BJP को पहला चुनावी झटका, महाराष्ट्र की एक लोकल बॉडी के चुनाव में नहीं मिली 17 में से एक भी सीट

काले धन पर शिकंजा कसने के उद्देश से नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से 500 और 1000 के नोटों के बैन के बाद पार्टी को महाराष्ट्र के लोकल चुनाव में बड़ा झटका लगा है।

Author मुंबई/नई दिल्ली | November 18, 2016 11:27 am
भाजपा ने गुजरात, महाराष्ट्र के बाद अब राजस्थान में भी जीत दर्ज कर ली है।

काले धन पर शिकंजा कसने के उद्देश से नरेंद्र मोदी सरकार की ओर से 500 और 1000 के नोटों के बैन के बाद पार्टी को महाराष्ट्र के लोकल चुनाव में बड़ा झटका लगा है। दरअसल, बीजेपी पार्टी महाराष्ट्र के एक लोकल एग्रिकल्चरल बॉडी के चुनावों में बुरा तरह से हार गई है। पार्टी को महाराष्ट्र में एग्रिकल्चरल प्रोड्यूस मार्केट कमेटी में 17 सीटों पर पीजेन्ट्स एंड वर्कर्स पार्टी ऑफ इंडिया (पीडब्ल्यूडी), शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी एलायंस और भाजपा में से सदस्यों के चुनाव की प्रक्रिया में भाजपा को एक भी सीट पर पर जीत नहीं मिली है। दरअसल, इस चुनाव में सबसे अधिक 15 सीटों पीजेन्ट्स एंड वर्कर्स पार्टी ऑफ इंडिया ने जीती हैं। वहीं दूसरी ओर, शिवसेना और कांग्रेस ने एक-एक सीट पर जीत हासिल की है, लेकिन भाजपा को एक भी सीट नहीं मिली। बता दें कि इस चुनाव में कांग्रेस ने 25 साल बाद एपीएमसी पोल में एक सीट जीतने में सफलता हासिल कर ली है। इन चुनावों में हुई जीत का उत्सव मनाते समय स्थिति तब खराब हो गई, जब पीडब्ल्यूडी और कांग्रेस समर्थकों ने कुर्सियां और पत्थर फेंकने शुरू कर दिए। इस दौरान बीजेपी का एक कार्यकर्ता घायल भी हुआ है।

काले धन पर लगाम लगाने के चलते महाराष्ट्र में सामान्य जीवन पर काफी बुरा असर पड़ा है। नोटबंदी के फैसले से रिटेल और खुदरा व्यापारी भी बेहद परेशान हैं। पूरे महाराष्ट्र में बहुत से किसान और मजदूरों को भी इस फैसले की वजह से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 17, 2016 10:15 pm

  1. A
    Ani Kerala
    Nov 19, 2016 at 12:25 am
    In 2004 embly election BJP just managed to gain 9% votes. In 2009 election BJP not even fielded any candidate in this seat and Congress wrested the seat from PWP after decades. Surprisingly after modi effect, In 2014 the Congress MLA jumped to BJP and won the election with BJP ticket. This was a shock for all opposition including their ally Shiv Sena. To defeat the common enemy they all came together under one umbrella and form alliance with PWP, Shiv Sena, Congress and NCP..
    Reply
    1. A
      Ani Kerala
      Nov 19, 2016 at 12:26 am
      The correpted black money meadias who is celebrating BJP's failure should know the reality. Panvel is a strong hold for PWP (Peasants and Workers Party) . BJP was very weak in this area, worst than Kerala. In 2004 embly election BJP just managed to gain 9% votes.
      Reply
      1. F
        farzi kumar
        Nov 17, 2016 at 6:49 pm
        क्या फ़र्ज़ी न्यूज़ है भाई बीजेपी का पिछले २५ साल का रिकॉर्ड भी तो प्रिंट करते की आखिर कितना सीट बीजेपी हारी १सीट या २ सीट
        Reply
        सबरंग