ताज़ा खबर
 

योगी सरकार के नोएडा के नए CEO ने दिखाया चुस्त अंदाज

1989 बैच के आइएएस अमित मोहन प्रसाद ने गुरुवार को नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी के रूप में पदभार ग्रहण किया।
Author नोएडा | April 14, 2017 01:28 am
प्रतीकात्मक तस्वीर

1989 बैच के आइएएस अमित मोहन प्रसाद ने गुरुवार को नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी के रूप में पदभार ग्रहण किया। योगी सरकार ने उन्हें उत्तर प्रदेश के निवेश आयुक्त के अलावा नोएडा और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण सीईओ का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा है। पदभार ग्रहण करने से पहले सीईओ प्राधिकरण के मुख्य प्रशासनिक भवन में स्थित सभी विभागों में खुद गए। जहां विभागाध्यक्ष समेत अन्य कर्मचारियों से बातचीत कर कार्यशैली समझी। सीईओ ने सिटिजन चार्टर को अमल में लाने के अलावा शहर की औद्योगिक छवि को निखारने और जनता से जुड़ी समस्याओं के जल्द निस्तारण को अपनी प्राथमिकता बताया है। अमित मोहन प्रसाद ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में भी कुछ समय के लिए एसीईओ रहे हैं। उनकी गवर्नेंस और विकास पर अच्छी पकड़ है। इन विषयों पर इंग्लैंड में एक साल का प्रशिक्षण लेकर कुछ समय पहले वापस लौटे हैं।

सीईओ सुबह करीब 11:30 बजे प्राधिकरण के मुख्य प्रशासनिक भवन पहुंचे। इसके बाद वह सबसे पहले औद्योगिक विभाग गए। जहां अधिकारियों और कर्मचारियों से बातचीत में औद्योगिक विकास में तेजी लाने के लिए समुचित कदम उठाने को कहा। उसके बाद वित्त, ग्रुप हाउसिंह, विधि विभाग समेत अन्य जगहों पर गए। प्राधिकरण के परियोजना अभियंताओं से भी सीईओ ने बातचीत की। उसके बाद बोर्ड रूम में अधिकारियों के साथ बैठक की। कार्यों के लिए लोगों को चक्कर कटवाने की प्रवृति को बदलने का इशारा कर्मचारियों और अधिकारियों को दिया। सिटिजन चार्टर पर अमल अनिवार्य बताया। फ्लैट खरीदारों और बिल्डरों के मुद्दों पर भी पूछताछ की।

साथ ही पिछले तीन दिनों के दौरान बिल्डर और खरीदारों की वार्ता में लिए गए फैसलों की भी जानकारी ली। इस अवसर पर अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी पीके अग्रवाल, शिशिर सिंह, डीएस उपाध्याय, डीसीईओ सौम्य श्रीवास्तव के अलावा बड़ी संख्या में अधिकारी मौजूद रहे। उल्लेखनीय है कि बुधवार को प्रदेश सरकार ने नोएडा और ग्रेटर नोएडा के सीईओ दीपक अग्रवाल का तबादला कर दिया था। दीपक अग्रवाल को राजस्व परिषद का सदस्य बनाया गया है। दीपक अग्रवाल 2015 में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ बनाए गए थे। कुछ माह पहले ही उन्हें नोएडा प्राधिकरण के सीईओ का भी कार्यभार सौंपा गया था। अपने कार्यकाल के दौरान दीपक अग्रवाल पर भ्रष्टाचार या अन्य तरह के कोई आरोप नहीं लगे हैं।
हालांकि अधिकांश समय उनकी तैनाती गौतम बुद्ध नगर और गाजियाबाद जिले में रही हैं। 2007 से 2009 तक दीपक अग्रवाल गाजियाबाद के जिलाधिकारी रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग