ताज़ा खबर
 

प्रेम विवाह में ‘लव जिहाद’ के कोण की होगी जांच

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को केरल पुलिस को निर्देश दिया कि एक मुसलिम व्यक्ति की याचिका में उठाए गए मुद्दे के व्यापक आयाम का पता लगाने में वह राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआइए) की हर तरह से मदद करे।
Author नई दिल्ली | August 11, 2017 04:11 am
उच्चतम न्यायालय

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को केरल पुलिस को निर्देश दिया कि एक मुसलिम व्यक्ति की याचिका में उठाए गए मुद्दे के व्यापक आयाम का पता लगाने में वह राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआइए) की हर तरह से मदद करे। इस व्यक्ति की शादी रद्द करते हुए हाई कोर्ट ने इसे लव जिहाद का मामला करार दिया था। प्रधान न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहर और न्यायमूर्ति धनंजय यशवंत चंद्रचूड़ के पीठ ने केरल निवासी शफीन जहान के वकील द्वारा की गई इस आपत्ति को गंभीरता से लिया कि वह इस मामले में जांच के रिकार्ड के अवलोकन के एनआइए के अनुरोध का विरोध कर रहा है।

पीठ ने कहा कि इससे यही आभास होता है कि याची (जहान) नहीं चाहता कि इस विवाद के बारे में अदालत के समक्ष सही और स्वतंत्र दृष्टिकोण सामने आए। हालांकि पीठ ने जहान को एनआइए के अनुरोध का जवाब देने की इजाजत दे दी। राष्ट्रीय जांच एजंसी चाहती है कि केरल पुलिस को इस मामले की जांच के रिकार्ड उसे उपलब्ध कराने का निर्देश दिया जाए।
पीठ ने टिप्पणी की- हम पूरी तस्वीर के बारे में जानना चाहते हैं। राष्ट्रीय जांच एजंसी पर किसी को संदेह क्यों होना चाहिए? क्या आप राष्ट्रीय जांच एजंसी पर संदेह कर रहे हैं? इससे पहले दिन में जांच एजंसी ने शीर्ष अदालत में केरल पुलिस को इस मामले की जांच का रिकार्ड दिखाने का निर्देश देने के लिए एक अर्जी दायर की।

जहान ने पिछले साल दिसंबर में एक हिंदू महिला से निकाह किया था। केरल हाई कोर्ट ने उसका निकाह रद्द करते हुए कहा था कि यह देश में महिलाओं की स्वतंत्रता का अपमान है।
हिंदू महिला ने इस्लाम धर्म कबूल करने के बाद जहान से निकाह किया था। आरोप है कि महिला को सीरिया में इस्लामिक स्टेट के मिशन ने भर्ती किया था और जहान सिर्फ उसके लिए काम करता था। हाई कोर्ट ने इस निकाह को रद्द और शून्य घोषित करते हुए इसे लव जिहाद का मामला बताया था। साथ ही राज्य पुलिस को इस तरह के मामलों की जांच करने का आदेश दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग