ताज़ा खबर
 

यमन में फंसे 70 भारतीय: हो रहे हैं बचाने के प्रयास

भारत सरकार ने कहा है कि वह यमन में फंसे अपने नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए कदम उठा रही है। सरकार ने यह बयान तब दिया जब नाविकों के एक समूह ने दावा किया गुजरात के 70 नाविक संकट-ग्रस्त यमन में फंसे हुए हैं।
Author नई दिल्ली/अमदाबाद | September 14, 2015 09:25 am
भारत सरकार ने कहा है कि वह यमन में फंसे अपने नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए कदम उठा रही है। (फोटो: भाषा)

भारत सरकार ने कहा है कि वह यमन में फंसे अपने नागरिकों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए कदम उठा रही है। सरकार ने यह बयान तब दिया जब नाविकों के एक समूह ने दावा किया गुजरात के 70 नाविक संकट-ग्रस्त यमन में फंसे हुए हैं।
भारतीय नागरिकों को सुरक्षित बचाने के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने दिल्ली में कहा, ‘यमन (जिबूती स्थित कैंप ऑफिस) में हमारा मिशन हालात से वाकिफ है। भारतीयों को सुरक्षित बचाने के लिए कदम उठा रहा है।’

गुजरात निवासी करीब 70 नाविक पिछले 15 दिन से ज्यादा समय से यमन में फंसे हुए हैं। नाविकों के एक समूह के मुताबिक, कच्छ के मांडवी गांव और जामनगर के जोडिया और सलाया गांवों के रहने वाले करीब 70 नाविक अपनी पांच मालवाहक नौकाओं के साथ यमन के खोखा पोर्ट पर फंसे हुए हैं। वे वहां माल पहुंचाने गए थे।

कच्छ और मांडवी के वाहनवत्ता संघ के अध्यक्ष हाजी जुनेजा ने बताया, ‘पांच नौकाओं के साथ 70 गुजराती नाविक करीब 15 दिनों से फंसे हुए हैं। उन्हें सुरक्षित बाहर निकलने के लिए अब सरकारी मदद की जरूरत है।’ उन्होंने कहा, ‘मैंने कल विदेश मंत्रालय को लिखकर उनसे अनुरोध किया कि हमारे नाविकों को बचाएं या उन्हें किसी सुरक्षित स्थान पर ले जाएं।’

जुनेजा ने कहा, ‘ये नाविक दयनीय स्थिति में हैं, क्योंकि कुछ बलों ने उन पर बमबारी की है। शनिवार रात वे बाल-बाल बचे जब कुछ बलों, जो या तो विद्रोही थे या सऊदी गठबंधन ने रॉकेट लांचरों से हमला किया।’ उन्होंने कहा कि ये नाविक माल पहुंचाने यमन गए थे।

इस बीच, यमन में फंसे एक नाविक की पहचान मांडवी गांव के सिकंदर के तौर पर हुई है। उसने शनिवार रात भेजे एक आॅडियो संदेश कहा, ‘मैं एक भारतीय हूं। मेरा नाम सिकंदर है। हम खोखा पोर्ट पर हैं। उन्होंने तीन रॉकेट दागे हैं हम खुद को किसी तरह बचाने में सफल हुए। हम अपनी जान बचाने के लिए यहां-वहांं भाग रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘हम यहां 70 भारतीय हैं। हमारे पास पांच जहाज हैं। वे युद्धक विमानों से हम पर हमले कर रहे हैं। कृपया हमारी मदद करें। हम भारतीय हैं। हम बड़ी मुश्किल में हैं। वे हमें मार डालेंगे। कृपया हमें बचाएं।’

विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा था कि छह भारतीय उस वक्त मारे गए जब उनकी नौका आठ सितंबर को सऊदी अरब की अगुवाई में किए जा रहे हमलों की चपेट में आ गई थी। मारे गए नाविक उन सात भारतीय नागरिकों में शामिल थे जिन्हें शुरुआत में तब लापता बताया गया था जब 21 भारतीयों को लेकर जा रही दो नौकाएं ‘मुस्तफा’ और ‘अस्मार’ हवाई हमलों की चपेट में आ गई थीं। मंत्रालय ने कहा था कि शेष 15 भारतीयों में 14 हुदैदा में सुरक्षित हैं और एक व्यक्ति लापता है, जिसका पता लगाया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग