ताज़ा खबर
 

सूरज के आगे ठंड ने मानी हार, क्रिसमस से अगले दिन खिली धूप

सोमवार का अधिकतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया।
Author December 27, 2016 03:42 am
श्रीनगर में गुरुवार को ठंड से राहत पाने के लिए लोगों ने लिया अलाव का सहारा।

क्रिसमस पर रविवार को पड़ी एक दिन की कड़ाके की ठंड को अगले दिन सूरज की किरणों ने पछाड़ दिया। सोमवार को राजधानी में दिन में आसमान साफ रहा और धूप खिली रही। सोमवार का अधिकतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री सेल्सियस अधिक दर्ज किया गया। हालांकि ठंडी हवाएं चलीं, लेकिन कड़ाके की ठंड का अहसास नहीं हुआ। विशेषज्ञों के मुताबिक, कड़ाके की ठंड के लिए वातावरण में जो कारक चाहिए वह इस पूरे दिसंबर गायब रहे।

हालांकि, भारतीय मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक 29 दिसंबर के बाद दिल्ली और आसपास के इलाकों में कोहरे की तीव्रता बढ़ेगी और नए साल के आगमन के साथ ही 1 जनवरी को ठंड फिर अपना असली रूप दिखा सकती है। रविवार को क्रिसमस के साथ-साथ लोगों ने इस मौसम के सबसे ठंडे दिन का भी आनंद लिया था, जब कोहरे और धुंध के बीच अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री नीचे दर्ज किया गया। रविवार को सूरज ने दिनभर अपना चेहरा नहीं दिखाया, वहीं सोमवार को पूरे दिन धूप खिली रही। मौसम विभाग के मुताबिक, सोमवार को अधिकतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री अधिक 22.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सोमवार को न्यूनतम तापमान में गिरावट तो आई लेकिन फिर भी वह सामान्य से 2 डिग्री अधिक 9.8 डिग्री सेल्सियस ही रहा। मौसम पूर्वानुमान के मुताबिक, अगले दो-तीन दिनों तक कोहरे की आशंका नहीं है, आसमान आमतौर पर साफ रहेगा और अधिकतम व न्यूनतम तापमान लगभग सोमवार जैसा ही रहेगा। उसके बाद 29 दिसंबर से बदलाव देखने को मिल सकते हैं। भारतीय मौसम विभाग में वरिष्ठ वैज्ञानिक कैप्टन विशन ने बताया, ‘29 दिसंबर से फिर कोहरे और धुंध की संभावना है, जिसकी तीव्रता 31 दिसंबर और 1 जनवरी के आसपास ज्यादा होगी, दिन में भी कोहरा छाया रह सकता है।’
इस साल दिल्ली-एनसीआर से कड़ाके की ठंड नदारद रहने पर निजी मौसम एजंसी स्काईमेट के प्रमुख मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने कहा कि इसके पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि पहाड़ों पर इस बार अच्छी बर्फबारी नहीं हुई है। रविवार को शिमला में पहली बर्फबारी हुई जिससे ठंडी हवाएं चलीं और दिल्ली-एनसीआर के मौसम में बदलाव देखने को मिला, लेकिन हवा की रफ्तार में तेजी के कारण सोमवार को धुंध नहीं रही और धूप निकली जिससे अधिकतम तापमान बढ़ गया। उन्होंने कहा, ‘दिल्ली एनसीआर में कड़ाके की ठंड के लिए जिम्मेदार कारक हैं पश्चिमी विक्षोभ, पहाड़ों पर बर्फबारी और ठंड की बारिश। इस बार ये सारे कारक या तो नदारद रहे या कमजोर रहे।’ पलावत ने कहा कि इस बार जाड़े की बारिश नहीं हुई है, मजबूत पश्चिमी विक्षोभ भी नहीं रहा। अभी एक थोड़ा मजबूत पश्चिमी विक्षोभ आया, जिससे हिमाचलव जम्मू-कश्मीर में बर्फबारी और हरियाणा, राजस्थान में बारिश देखने को मिली।। पलावत ने कहा, ‘दिल्ली-एनसीआर में चल रही उत्तरी हवाओं से रात का तापमान तो 2 से 3 डिग्री सेल्सियस गिरेगा, लेकिन धूप के कारण दिन का तापमान 22-23 डिग्री सेल्सियस बना रहेगा, जिससे सुबह और रात को तो ठंड रहेगी, लेकिन दिन में परेशानी नहीं होगी।’

वहीं रविवार की धुंध के बाद सोमवार को भी सुबह के समय कई जगहों पर मध्यम से घना कोहरा छाया रहा, जिससे 37 ट्रेनें तय समय से देरी से चलीं और छह के समय में बदलाव किया गया। मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि सुबह साढ़े पांच सफदरजंग में दृश्यता 600 मीटर दर्ज की गई जो सुबह साढ़े आठ बजे घटकर 400 मीटर हो गई। पालम में सुबह साढ़े पांच बजे दृश्यता शून्य थी, जो थोड़े सुधार के साथ सुबह साढ़े आठ बजे 100 मीटर हो गई। सुबह के इस कोहरे में मंगलवार से फिलहाल दो-तीन दिनों तक कमी रहेगी

चौकीदार पर दो महिलाओं ने किया चाकू से हमला, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग