ताज़ा खबर
 

उपहार सिनेमा हादसे में दो बच्चे खोने वाले माता-पिता ने लिखी न्याय की लंबी लड़ाई पर किताब

उपहार सिनेमा हादसे के 59 पीड़ितों में से दो के माता-पिता ने इस सदमे और न्याय के लिए अपनी लंबी लड़ाई पर एक किताब लिखी है।
Author नई दिल्ली | October 10, 2016 03:40 am
उपहार अग्निकांड : अंसल भाइयों पर 60 करोड़ का जुर्माना, लेकिन अब जेल नहीं जाएंगे

दिल्ली के उपहार सिनेमा हादसे के 59 पीड़ितों में से दो के माता-पिता ने इस सदमे और न्याय के लिए अपनी लंबी लड़ाई पर एक किताब लिखी है। ‘ट्रायल बाए फायर’ का प्रकाशन पेंगुइन रेंडम हाउस इंडिया ने किया है।  नीलम और शेखर कृष्णमूर्ति ने 13 जून 1997 को हुए हादसे में अपने दो बच्चों 17 साल की उन्नति और 13 साल के उज्ज्वल को खो दिया था। दोनों ने अपने बच्चों को न्याय दिलवाने और हादसे के जिम्मेदार लोगों को सलाखों के पीछे पहुंचाने के लिए लड़ने का फैसला लिया। उन्नीस साल पहले शुरू हुई उनकी लड़ाई आज तक जारी है।

हादसे वाले दिन दक्षिण दिल्ली में स्थित उपहार सिनेमा में शाम चार बजकर 55 मिनट पर बालकनी वाले हिस्से में घना धुंआ भर गया था। तब इस सिनेमा में ‘बॉर्डर’ फिल्म लगी हुई थी। वहां से निकलने की कोई व्यवस्था नहीं थी इसलिए बालकनी में बैठे लोग वहीं फंसकर रह गए। शाम सात बजे तक 57 लोगों की मौत हो चुकी थी जबकि भगदड़ में 103 लोग गंभीर रूप से घायल थे। बाद में दो और लोगों की अस्पताल में मौत हो गई थी। रियल एस्टेट कारोबारी सुशील और गोपाल अंसल अगस्त में जेल की सजा से बच गए थे।

सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें प्रत्येक को 30 करोड़ रुपए जुर्माना देने का निर्देश दिया था जबकि उनकी जेल की सजा की अवधि को जेल में तब तक गुजारे वक्त तक सीमित कर दिया था। शीर्ष अदालत ने सीबीआइ और पीड़ित संगठन की गुजारिश को स्वीकार नहीं किया था। हादसे के ठीक बाद से सुशील ने पांच महीने की जेल की सजा काटी थी जबकि गोपाल चार महीने तक जेल में रहा था। सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में अंसल भाइयों को दोषी माना था लेकिन उन्हें मिली सजा की अवधि पर उनका मत भिन्न था। साल 2008 में दिल्ली हाई कोर्ट ने दोनों भाइयों को एक-एक साल की जेल की सजा दी थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग