December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

कचरे के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट की आप सरकार को फटकार, कहा- झगड़ालू व्‍यक्ति समस्‍या का जिम्‍मेदार दूसरे को मानता है

दिल्ली में कूड़ा कचरा डालने के लिए निर्धारित तीन स्थानों के निकट ‘कुतुब मीनार की तरह’ ऊंचे कूड़े के अंबार की ‘चिंताजनक’ स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को आड़े हाथ लिया है।

Author नई दिल्‍ली | October 21, 2016 19:04 pm
दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल। (फाइल फोटो)

दिल्ली में कूड़ा कचरा डालने के लिए निर्धारित तीन स्थानों के निकट ‘कुतुब मीनार की तरह’ ऊंचे कूड़े के अंबार की ‘चिंताजनक’ स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को आड़े हाथ लिया है। कोर्ट ने कहा कि इतनी अधिक मात्रा में कचरे के निस्तारण के लिये वह कुछ अधिक नहीं कर रही है। न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर और न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की पीठ ने दिल्ली में सत्तारूढ आम आदमी पाटी के विधायकों से कहा कि कूड़े के निस्तारण के लिए वे जनता में जागरूकता पैदा करें। पीठ ने कहा, ‘‘कूडा एकत्र करने के निर्धारित स्थानों पर 45 मीटर से ऊंचे कचरे के अंबार लगे हैं। ये उंचाई में कुतुब मीनार की तरह हैं। कुतुब मीनार की उंचाई तो 73 मीटर है और कूडे के ये ढेर उसकी आधी उंचाई से अधिक हैं। यह चिंताजनक स्थिति है। इससे कौन निबटने जा रहा है? आपको (सरकार) इस समस्या से निपटना होगा।’’

सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय को मिली बड़ी राहत; सुप्रीम कोर्ट ने 28 नवंबर तक बढ़ाई पैरोल

न्यायाधीशों ने ये टिप्पणियां उस वक्त कीं जब दिल्ली के मुख्य सचिव की ओर से सालिसीटर जनरल रंजीत कुमार ने ओाखला, गाजीपुर और भलस्वा में स्थित तीन लैंडफिल स्थानों के निकट कूडे के 45 मीटर ऊंचे ढेरों का जिक्र किया। इस पर पीठ ने दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा से कहा कि पूरी दिल्ली में आप पार्टी के विधायक हैं जो कूडे कचरे के निस्तारण के बारे में जनता में जागरूकता पैदा कर सकते हैं। मेहरा ने कहा कि इन विधायकों को अपने निर्वाचन क्षेत्रों में नाले, सीवर और सड़कों के निर्माण सहित कई अन्य जिम्मेदारियों को भी देखना होता है और उनसे जनता में जागरूकता पैदा करने के लिये कहना ‘‘कुछ ज्यादा ही हो जाएगा।’’

आप के 13वें विधायक गिरफ्तार, उत्तम नगर के विधायक नरेश बाल्यान पर उत्पीड़न का आरोप

मेहरा के इस बयान पर न्यायाधीशों ने टिप्पणी की, ‘‘यह मत कहिये। यह काम तो घर से शुरू करना होगा। आपके विधायक, आपने निर्वाचित प्रतिनिधि हैं जिन्हें जनता को संवेदनशील बनाना चाहिए। ऐसा मत कहिए कि विधायकों की जिम्मेदारी नहीं है। दबंगई करने वाला व्‍यक्ति परेशानियों के लिए दूसरों को जिम्‍मेदार ठहराता है।’’

पंजाब: सर्वे के अनुसार कांग्रेस और आप में कांटे की टक्कर, बीजेपी-अकाली गठबंधन काफी पीछे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 7:02 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग