ताज़ा खबर
 

शीला दीक्षित ने कहा- उत्तरप्रदेश की ‘बहू’ हूं, वहां कोई भी भूमिका निभाने को तैयार

शीला दीक्षित मूल रूप से पंजाब से हैं और वह उत्तरप्रदेश से दिग्गज कांग्रेस नेता उमाशंकर दीक्षित की पुत्रवधु रही हैं जो काफी समय तक केंद्रीय मंत्री रहे थे।
Author नई दिल्ली | July 5, 2016 19:21 pm
कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित। (पीटीआई फोटो)

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित ने मंगलवार (5 जुलाई) को जोर दिया कि उत्तरप्रदेश की ‘पुत्रवधु’ के रूप में वह राजनीतिक रूप से इस महत्वपूर्ण राज्य में कोई भी भूमिका निभाने को तैयार हैं। उत्तरप्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने जाने के संकेत दिए गए हैं। यह पूछे जाने पर कि गांधी परिवार से करीबी और उनके ब्राह्मण होने का उन्हें लाभ मिला, उन्होंने कहा कि, ‘मैं उत्तरप्रदेश की पुत्रवधु हूं। मेरा वहां विवाह हुआ है, मेरा वहां जन्म हुआ। मैं समझती हूं कि यह विश्वसनीयता के लिए पर्याप्त है।’

इंडियन बुमेन प्रेस कॉर्प में संवाददाताओं से बातचीत में शीला ने कहा, ‘पहले घोषणा होने दीजिए और तब मैं कोई टिप्पणी करने की स्थिति में होउंगी। लेकिन जमीनी कार्यकर्ता के रूप में पार्टी मुझसे जो भी करने के लिए कहेगी, उसके लिए मैं तैयार हूं।’ कांग्रेस पार्टी के चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कहा है कि वह उत्तरप्रदेश चुनाव में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में ब्राह्मण चेहरे के पक्ष में है और समझा जाता है कि उन्होंने शीला दीक्षित का नाम सुझाया है। कांग्रेस के बारे में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यह पहला बार नहीं है जब कांग्रेस खराब दौर से गुजर रही है। शीला दीक्षित मूल रूप से पंजाब से हैं और वह उत्तरप्रदेश से दिग्गज कांग्रेस नेता उमाशंकर दीक्षित की पुत्रवधु रही हैं जो काफी समय तक केंद्रीय मंत्री रहे थे।

शीला दीक्षित ने कहा, ‘हमारे पास समय कम है। यही एक चिंता है । हालांकि सपा को छोड़कर भाजपा समेत किसी भी अन्य पार्टी ने सक्रियता से चुनाव अभियान शुरू नही किया है।’ यह पूछे जाने पर कि क्या उत्तरप्रदेश चुनाव अभियान में प्रियंका गांधी सक्रियता से हिस्सा लेंगी, 78 वर्षीय शीला दीक्षित ने कहा कि वह बहुत ‘बड़ी पूंजी’ होंगी और उनका स्वागत होगा। शीला ने कहा, ‘मैं आपसे यह नहीं कह सकती कि क्या होगा । मेरी ओर से कुछ कहना जल्दबाजी होगी। अगर वह शामिल होती हैं तब उनका स्वागत होगा क्योंकि वह उत्तरप्रदेश से अवगत है और बहुत बड़ी पूंजी होगी।’

राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाये जाने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि मीडिया कुछ ज्याद ही कल्पना कर लेती है। उन्होंने कहा कि यह निर्णय पार्टी की कार्य समिति और परिवार साथ लेगा। शीला दीक्षित ने पिछले महीने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की थी जिस दौरान बताया जाता है कि उन्हें उत्तरप्रदेश में बड़ी भूमिका के संकेत मिले थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    Ravindra Agrawal
    Jul 5, 2016 at 2:20 pm
    उत्तर प्रदेश के बेटे और बेटियां तो नीरे निखद निकले, कमाल है जी, जिस उत्तर प्रदेश ने कांग्रेस को चार प्रधान मंत्री दिए अब वहां मुख्य मंत्री के उम्मीदवारों का अकाल है, कैसा नेतृत्व विकसित हुआ है उत्तर प्रदेश कांग्रेस में कि अब मुख्य मंत्री के उम्मीदवार का आयात किया जाएगा. बधाई हो उत्तर प्रदेश कांग्रेस को .
    (0)(0)
    Reply
    1. शोम रतूड़ी
      Jul 5, 2016 at 4:55 pm
      उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार के बारे में बात करना दूर की कौड़ी है ,उसकी स्थिति फ़िलहाल चौथे नंबर है ,लेकिन कांग्रेस के लिए दुखद और निराशाजनक यह है कि उन्हें मुख्यमंत्री के प्रत्याशी केरूप में एक 78 वर्षीय महिला को ढूंढना पड़ रहा है जो कि 3 बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रही हों ,लगता है कांग्रेस में नया नेतृत्व पैदा करने की क्षमता खत्म हो गयी.इसमें भी आशंका है की प्रियंका भी कुछ कर पाएंगी,जब वे कुछ कर सकती थीं तब उन्हें नेपथ्य में रखा गया .
      (0)(0)
      Reply
      सबरंग