ताज़ा खबर
 

गिरते रहे किराना दुकानों के शटर

बैंकों से पैसे सुगमता से नहीं निकलने का असर किराना दुकानों पर पड़ा।
Author November 13, 2016 05:14 am
2000 के नए नोट। (तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।) (Photo Source: AP)

बड़े नोटों पर पाबंदी के पांचवें दिन लोगों के पास अब आटा, दाल, चावल और नमक खरीदने तक के पैसे नहीं रह गए हैं। ऐसे में किराना दुकानदार शनिवार को उधारी से बचने और बिक्री घटने से अपनी दुकान का शटर गिराते दिखे। शनिवार दोपहर 2 बजे तक न्यू अशोक नगर के कई किराना दुकानदारों ने अपना शटर बंद कर दिया। दुकानदारों का कहना है कि लोग दुकानों पर पांच और हजार के नोट लेकर आ रहे हैं साथ ही उधार मांगने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। जबकि दुकानदारों का कहना है कि आटा, दाल व दूध के बड़े कारोबारी पांच सौ और हजार के पुराने नोट लेने से सीधे मना कर दिए हैं। ऐसे में दुकानदार अपनी दुकान बंद करना ही रास्ता मान रहे हैं।

बैंकों से पैसे सुगमता से नहीं निकलने का असर किराना दुकानों पर पड़ा। शनिवार सुबह दुकानों पर सबसे ज्यादा उधार मांगने वाले आए और लोगों को मना करना पड़ रहा है। दुकानदारों का कहना है कि उन्हें अपनी दुकान चलाने के साथ बैंक जाकर पैसे बदलना भी एक समस्या है। जबकि पांच सौ, हजार के नोट लेने से बचने के बावजूद उनके पास भी कई हजार रुपए के पांच सौ और हजार रुपए के नोट रोजाना आ रहे हैं। न्यू अशोक नगर के ब्लॉक बी में किराना दुकानदार हिमांशु गुप्ता का कहना है कि पिछले पांच दिनों में दुकान बिल्कुल खाली हो गई है। आटा, तेल्२ा, नमक, चीनी, सिगरेट व दूधवाले बुधवार से ही पांच सौ और हजार के नोट लेने से मना कर दिए हैं। दो-तीन दिन तो किसी तरह थोड़ा उधार, नकद लगाकर पैसे दिए गए लेकिन दुकान पर आने वाले खरीदार भी उधार मांग रहे हैं या पांच सौ या हजार के नोटों का हवाला दे रहे हैं।

उनका कहना था कि पहले से दुकान में सामान कम होने और उधारवाले बढ़ने के कारण सुबह से ही दुकानदारी करना कठिन हो गया था। उसी के सामने वाली गली में, ब्लॉक सी में सानंद की भी किराने की दुकान है। उसने भी दोपहर बाद अपनी दुकान बंद कर दी। उसका कहना था कि उसकी दुकान से रोजाना करीब सौ किलोग्राम दूध की बिक्री होती थी, लेकिन वह घटकर 20 किलोग्राम हो गई है। लोग खरीदारी करना कम कर दिए हैं। ऐसे में दुकानदारी कर अपनी पूंजी फंसाने जैसा हो गया है। सानंद ने बताया कि शुक्रवार को उसने तीन हजार रुपए के दूध लिए लेकिन फुटकर में अठारह सौ रुपए ही थे, जिसे दूधवाले को देने पर उसने सीधे मना करते हुए बारह सौ रुपए के दूध वापस ले लिए।

“2000 रुपए के नोट सिर्फ बैंक से मिलेंगे, ATM से नहीं”: SBI चैयरमेन

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग