January 21, 2017

ताज़ा खबर

 

शाम होते ही लीलानगरी बन जाती है दिल्ली

रामलीला में दो सगी बहनें रामलीला में सास बहू बनी हैं। एक बहन सीता बनी और दूसरी कैकेयी। सीता का पात्र रजनी शाक्य निभा रही हैं।

रामलीला।

 

दिल्ली के कोने-कोने में इन दिनों चल रही रामलीलाओं में कई पात्र पूर्वी दिल्ली की महिला निगम पार्षद हैं, और कई पात्र एक ही परिवार के हैं। इस बार बॉलीवुड स्टार भी विभिन्न पात्रों का अभिनय कर रहे हैं। शाम ढलते ही ऐसा लगता है कि दिल्ली राममयी हो गई है। हर कोने पर रामलीला हो रही है। कई लीलाओं में तो विभिन्न तरह के सामाजिक संदेश भी दिए जा रहे हैं। लीलाओं में वृद्धजनों का सम्मान, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और महिलाओं की सुरक्षा के संदेश विभिन्न तरीकों से दिए जा रहे हैं। कई लीलाओं ने तो राम-विवाह के निमंत्रण पत्र भी आम लोगों के बीच बांटे हैं।

पूर्वी दिल्ली की श्री रामलीला कमेटी इंद्रप्रस्थ के मंच पर सीता की विदाई दिखाई गई। सीता विदाई के समय पूर्वी दिल्ली की महापौर सत्या शर्मा व स्थानीय पार्षद गीता शर्मा की अगुआई में 5 महिला पार्षदों ने सीता को जनकपुरी की वरिष्ठ महिलाओं के रूप में प्रधानमंत्री मोदी की शिक्षा से अवगत कराया। उन्होंने वृद्धजनों का सम्मान, बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ, बेटी को वीरांगना बनाओ, स्वच्छ परिवार, स्वच्छ राज्य और देश, और स्वच्छता में ही होता है, लक्ष्मी का वास। महिला पार्षदों में सीता को शिक्षा देने के माध्यम से जन संदेश दिया। इन दृश्यों में महिला पार्षद भी भावुक हो गर्इं और उन्होंने भरी आंखों से सीता को विदा किया। उसके बाद अयोध्या परिवार के साथ निगम पार्षदों ने भी बहूरानी सीता मां का स्वागत किया। यहां पर महिला निगम पार्षदों ने सीता को युवरानी के कर्तव्यों की शिक्षा दी। पार्षदों ने सीता के माध्यम से लिंगभेद के खिलाफ खड़ा होने का संदेश दिया।

पूर्वी दिल्ली के डीडीए ग्राऊंड में होने वाली रामलीला में दो सगी बहनें रामलीला में सास बहू बनी हैं। एक बहन सीता बनी और दूसरी कैकेयी। सीता का पात्र रजनी शाक्य निभा रही हैं। वे यहां पर करीब 10 साल से सीता की भूमिका अदा कर रही हैं। इसी लीला में उनकी बड़ी बहन मधु कैकेयी का रोल अदा कर रही हैं। ये दोनों बहनें नृत्यांगनाएं हैं। ये दोनों राजस्थानी नृत्य करती हैं। दोनों बहनों का कहना है कि वे पिछले करीब 15 साल से रामलीलाओं में कोई न कोई पात्र का अभिनय कर रही हैं। लालकिले में हो रही नव श्री धार्मिक लीला कमेटी में मां-बेटी सास-बहू का पात्र अदा कर रही हैं। पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार फेज तीन में रहने वाली चांदनी सीता क ा रोल अदा कर रही हैं। उनकी माता सपना पिछले दस साल से विभिन्न रामलीलाओं में कोई न कोई पात्र का अभिनय कर रही हैं। चांदनी दिल्ली विश्वविधालय की छात्रा हैं। चांदनी के पिता शैलेंद्र कुमार रामलीलाओं में मेकअप कलाकार हैं। रामलीला के मंचन से करीब एक महीना पहले ही, यह परिवार राममय हो जाता है। घर में लीला की तैयारियां शुरू हो जाती हैं और सात्विक खाना पकता है। चांदनी जब छोटी बच्ची थी, तब ही से वह कोई न कोई रोल अदा कर रही है। उन्होंने बताया कि लीला में उनकी शुरुआत वानरी सेना से शुरू हुई, और अब वे एक अहम रोल अदा कर रही हैं।

पुरानी दिल्ली के केमिकल व्यापारी महाबीर प्रसाद पिछले 59 साल से लीलाओं में विभिन्न पात्रों का मंचन कर रहे हैं। इस बार वे अपने दो पोतों को भी लीला में अभिनय करवा रहे हैं। पुरानी दिल्ली की रामलीला में उनका एक पोता रूद्राक्ष राम का अभिनय कर रहा है और दूसरा पोता आरिव लक्ष्मण का रोल अदा कर रहा है। महाबीर का कहना है कि वे चाहते हैं कि लीला का माहौल हमेशा उनके घर पर भी बना रहे। महाबीर जब आठ साल के थे, तभी से लीला में कोई न कोई रोल अदा कर रहे हैं।

..

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 6, 2016 4:43 am

सबरंग