January 17, 2017

ताज़ा खबर

 

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से कहा, पत्रकार राजदेव रंजन हत्या मामले की जांच 3 माह में पूरी करें

रंजन की पत्नी आशा रंजन ने 23 सितंबर को दावा किया था कि सीबीआई ने शहाबुद्दीन के डर के कारण इस मामले में जांच शुरू तक नहीं की है।

Author नई दिल्ली | October 17, 2016 20:37 pm
उच्चतम न्यायालय (सुप्रीम कोर्ट)

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार (17 अक्टूबर) को सीबीआई से कहा कि वह बिहार में पत्रकार राजदेव रंजन हत्या मामले की जांच तीन माह में पूरी करे। न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति अमिताव रॉय की पीठ ने यह स्पष्ट कर दिया कि हत्या मामले का कोई भी आरोपी आरोप पत्र दायर नही होने के आधार पर जमानत न मांगे। पीठ ने सिवान में सत्र न्यायाधीश से भी यह रिपोर्ट मांगी कि जिस दिन ये दो भगौड़े आरोपी – मोहम्मद कैफ और मोहम्मद जावेद बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव और राजद के विवादित नेता शहाबुद्दीन के साथ नजर आए थे, तब क्या उन्हें घोषित अपराधी करार दिया गया था? इसी बीच, बिहार सरकार ने पीठ को बताया कि इन आरोपियों ने जब सिवान में बिहार के स्वास्थ मंत्री के साथ मुलाकात की थी, तब उन्हें घोषित अपराधी करार नहीं दिया गया था।

रंजन की पत्नी आशा रंजन ने 23 सितंबर को शीर्ष अदालत में दावा किया था कि सीबीआई ने ‘राजनीतिक प्रभाव’ और ‘शहाबुद्दीन के डर’ के कारण इस मामले में जांच शुरू तक नहीं की है। बाद में शीर्ष अदालत ने सीबीआई को पत्रकार हत्या के मामले की जांच आगे बढ़ाने के लिए कहा और साथ ही बिहार पुलिस से पत्रकार के परिवार को सुरक्षा देने के लिए कहा। पत्रकार के परिवार ने शहाबुद्दीन से जान का खतरा होने का दावा किया है। अदालत ने रंजन की पत्नी की याचिका के आधार पर शहाबुद्दीन, बिहार के स्वास्थ्य मंत्री एवं राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे तेज प्रताप यादव और बिहार सरकार से भी जवाब मांगा है। रंजन की पत्नी ने मामले को बिहार के सिवान से दिल्ली स्थानांतरित करने की भी मांग की है। अखबारों में छपी एक तस्वीर में राजद प्रमुख के बेटे को कथित गैंगस्टर से नेता बने शहाबुद्दीन के दो शार्प शूटरों में से एक के साथ देखा गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 17, 2016 8:37 pm

सबरंग