December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

CWC मीटिंग में बोले राहुल गांधी- अंधकार के दौर से गुजर रहा लोकतंत्र

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी बीमार होने के कारण बैठक में हिस्सा नहीं ले पाईं, इसलिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी। ( फाइल फोटो -पीटीआई)

सोमवार को नई दिल्ली में कांग्रेस की वर्किंग कमिटी (कार्यकारिणी समिति) की बैठक हुई है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी बीमार होने के कारण बैठक में हिस्सा नहीं ले पाईं, इसलिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी बैठक की अध्यक्षता की। संसद के शीतकालीन सत्र के पहले हुई इस बैठक में मौजूदा राजनीतिक हालातों पर चर्चा की गई। मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा कि लोकतंत्र इस समय अंधकार के दौर से गुजर रहा है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को सत्ता का नशा हो गया है। असहमति रखने वाले सभी लोगों को वह चुप करा देना चाहती है।

राहुल गांधी ने NDTV पर बैन लगाने का मुद्दा उठाते हुए कहा कि “टीवी चैनलों को ‘दंडित’ कर बंद करने को कहा जा रहा है और सरकार को जवाबदेह ठहराने के लिए विपक्ष की घेराबंदी की जा रही है। सरकार द्वारा सत्ता का दुरूपयोग करके आजादी के दमन का प्रयास कर रही है। ऐसे खतरनाक षणयंत्रों को हम कामयाब नहीं होने देने देंगे।” मोदी सरकार मीडिया और विरोध को दबाने में लगी हुई है। वन रैंक वन पेंशन मसले पर सरकार झूठ बोल रही है। वह आगामी शीत सत्र में संसद में यह मुद्दा उठाएंगे।

वीडियो में देखिए, मीटिंग में राहुल गांधी ने कैसे साधा मोदी सरकार पर निशाना

जम्मू-कश्मीर की चर्चा करते हुए राहुल ने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान से जुड़े मुद्दे पर सरकार एक किनारे से दूसरे किनारे जा रही है। हमारे जवानों को ओआरओपी पर धोखा दिया जा रहा है और पेंशन घटा दी है।’ सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक में राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने पर कोई फैसला नहीं होगा। कार्यकारिणी समिति की इस बैठक में कांग्रेस मनमोहन सिंह, ऐके एंटनी, अहमद पटेल, दिग्विजय सिंह, मलिका अर्जुन खड़गे, अंबिका सोनी, बीके हरिप्रसाद और गुलाम नबी आजाद समेत लगभग 21 सदस्यों ने हिस्सा लिया।

ऐसा पहली बार है कि राहुल गांधी ने समिति की बैठक की अध्यक्षता की है। 46 वर्षीय राहुल को जनवरी 2013 में जयपुर के ‘चिंतन शिविर’ में उपाध्यक्ष चुना गया था। 16 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र से पूर्व समिति की बैठक होना महत्वपूर्ण माना जा रहा है। संसद सत्र में कांग्रेस विभिन्न मुद्दों पर सरकार को घेरने की योजना बना रही है जिनमें पठानकोट हमले की कवरेज को लेकर एनडीटीवी इंडिया के खिलाफ एक दिवसीय प्रतिबंध के मुद्दे पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का विषय भी शामिल है। कांग्रेस में संगठनात्मक चुनाव काफी लंबे समय से अटके पड़े हैं और पार्टी ने 31 दिसंबर तक इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए चुनाव आयोग से समय मांगा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 7, 2016 12:29 pm

सबरंग