ताज़ा खबर
 

रेसकोर्स रोड का नाम एकात्म मार्ग करने की तैयारी, बीजेपी सांसद मिनाक्षी लेखी ने रखा प्रस्ताव

दीनदयाल उपाध्याय को उनके अनुयायी अंत्योदय और एकात्म की अवधारणा के लिए जानते हैं।
Author नई दिल्ली | September 21, 2016 02:25 am
भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी। (फाइल)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आवासीय पता ‘7 रेसकोर्स रोड’ से बदलकर जल्द ही ‘7 एकात्म मार्ग’ हो सकता है। भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने नई दिल्ली नगर निगम पालिका परिषद (एनडीएमसी) के समझ प्रस्ताव रखा है कि ‘रेस कोर्स रोड’ का नाम भारतीय संस्कृति से मेल नहीं खाता, इसलिए इसे बदलकर ‘एकात्म मार्ग’ रखा जाना चाहिए। लेखी के अनुसार, नया नाम प्रत्येक प्रधानमंत्री को समाज के अंतिम व्यक्ति के बारे में याद दिलाएगा। उन्होंने यह भी सुझाव दिया है कि नामकरण पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मशती के दिन 25 सितंबर को किया जा सकता है। भाजपा सांसद के इस प्रस्ताव पर बुधवार को परिषद की बैठक में फैसला किए जाने की संभावना है।

राजधानी दिल्ली का रेसकोर्स रोड देश के सबसे अहम मार्गों में से एक है क्योंकि देश के प्रधानमंत्री का आधिकारिक आवास रेसकोर्स रोड पर ही स्थित है। मीनाक्षी लेखी ने 9 सितंबर को एनडीएमसी अध्यक्ष नरेश कुमार को पत्र लिखकर कहा है कि इस वर्ष हम अपनी राजनीतिक धारा के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मशताब्दी मनाने जा रहे हैं। आपके मार्गदर्शन व कर्तव्य से एकात्म मानवदर्शन आम लोगों के मन पर चिरस्थायी रूप से अंकित होगा, ऐसा मेरा दृढ़ विश्वास है। पंडित जी के अंत्योदय के सपने को आप पूरे मनोयोग से पूरा करने में लगे हुए हैं। एकात्म शब्द देश के जनमानस के मस्तिष्क पर भी अंकित हो, इसके लिए मैं आपके सम्मुख एक निवेदन कर रही हूं। गौरतलब है कि दीनदयाल उपाध्याय को उनके अनुयायी अंत्योदय और एकात्म की अवधारणा के लिए जानते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 सितंबर को उपाध्याय के जन्मशती समारोहों की शुरुआत करेंगे। निकाय के परिषद की बुधवार को बैठक है जिसमें लेखी के इस प्रस्ताव पर फैसला लिया जा सकता है। परिषद की बैठक के एजंडे में यह प्रस्ताव शामिल है। परिषद के अनुसार, ‘एनडीएमसी अधिनियम, 1994 के खंड 231 के उप-खंड (1) धारा (ए) में सड़कों के नामकरण और उनकी संख्या निर्धारण के संबंध में प्रावधान है। एनडीएमसी लोगों की भावनाओं के सम्मान, देश के महान हस्तियों की पहचान और सम्मान में मार्गों, सड़कों और संस्थानों का पुन: नामकरण करता आया है। मीनाक्षी लेखी एनडीएमसी की सदस्य भी हैं और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (जो एनडीएमसी के भी सदस्य हैं) की अनुपस्थिति में लेखी की अध्यक्षता में बुधवार को बैठक होगी। परिषद में कुल 13 सदस्य हैं।

इस बीच एनडीएमसी में सदस्य और दिल्ली कैंट से आप विधायक सुरिंदर सिंह ने इस प्रस्ताव का विरोध करने का फैसला किया है। हालांकि मुख्यमंत्री की अनुपस्थिति में परिषद की बैठक में आप से एकमात्र सदस्य सुरिंदर सिंह ही होंगे। उन्होंने कहा कि वे अकेले इस प्रस्ताव का पुरजोर विरोध करेंगे और किसी शहीद के नाम पर इस रोड का नाम रखने की मांग रखते हैं। सिंह ने कहा, रेसकोर्स रोड का नाम किसी सैनिक के नाम पर होना चाहिए। मैं प्रस्ताव देता हूं कि इसे 14 दिसंबर 1971 के युद्ध नायक रहे फ्लाइट लेफ्टिनेंट निर्मलजीत सिंह शेखों के नाम पर रखा जाए जिन्होंने देश के लिए अपनी कुरबानी दे दी। रोड का नाम बदलने में आरएसएस की विचारधारा नहीं दिखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि रेसकोर्स रोड पर वायुसेना के दो स्टेशन भी हैं। सिंह राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के पूर्व कमांडो हैं और 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले में जख्मी हुए थे।दिल्ली के पर्यटन मंत्री कपिल मिश्रा ने इस रेसकोर्स रोड के नए प्रस्तावित नाम पर चुटकी लेते हुए कहा, यह अब आधिकारिक है…7आरसीआर में एक आत्मा रहती है।

एनडीएमसी एरिया में आने वाले रेसकोर्स रोड का नाम 1940 में स्थापित दिल्लीरेस क्लब के हिस्से दिल्ली रेसकोर्स के नाम पर रखा गया था। एनडीएमसी ने पहले भी कई सड़कों के नाम बदले हैं। पिछले साल अगस्त में लुटियंस दिल्ली में औरंगजेब रोड का नाम बदलकर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम रोड रख गया था। एनडीएमसी ने यह फैसला पूर्वी दिल्ली से भाजपा सांसद महेश गिरि के प्रस्ताव के बाद किया था जिसमें उन्होंने ‘इतिहास में हुई गलतियों को सुधारने’ की मांग की थी। फिलहाल, भाजपा नेताओं की तरफ से अकबर रोड (जहां कांग्रेस मुख्यालय है) का नाम बदल कर महाराणा प्रताप मार्ग करने की भी मांग भी उठ रही है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.