ताज़ा खबर
 

कई राजनीतिक पार्टयों ने एक मंच से की मासूका बनाने की मांग

कांग्रेस, माकपा, जद (एकी), राष्ट्रीय जनती दल, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाजवादी पार्टी, और आम आदमी पार्टी से जुड़े प्रतिनिधि शहजाद पूनावाला और तहसीन पूनावाला की अगुआई वाले ‘सेव आवर कंस्टीट्यूशन ग्रुप’ संगठन के बैनर तले जुटे।
Author नई दिल्ली | July 20, 2017 04:12 am
भीड़ के द्वारा अखलाख, जुनैद की हत्या जैसी वारदात को रोकने के लिए बुधवार को कानून बनाने की मांग उठी।

भीड़ के द्वारा अखलाख, जुनैद की हत्या जैसी वारदात को रोकने के लिए बुधवार को कानून बनाने की मांग उठी। विभिन्न राजनीतिक पार्टियों ने एक मंच से मानव सुरक्षा कानून (मासूका) बनाने की मांग की। यह पहल तब हुई जब बुधवार को राज्यसभा में सरकार ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि यह मामला कानून व्यवस्था का है और कानून व्यवस्था राज्य सरकारों का विषय है। इसके बाद कांग्रेस, माकपा, जद (एकी), राष्ट्रीय जनती दल, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाजवादी पार्टी, और आम आदमी पार्टी से जुड़े प्रतिनिधि शहजाद पूनावाला और तहसीन पूनावाला की अगुआई वाले ‘सेव आवर कंस्टीट्यूशन ग्रुप’ संगठन के बैनर तले जुटे।

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा, ‘किसी को सजा देने का अधिकार भीड़ को नहीं है। आज भीड़ की आड़ में हत्या का सिलसिला सा चल पड़ा है। क्योंकि भीड़ समझती है कि कोई उनका बाल बाका नहीं कर सकता है। लिहाजा सख्त कानून समय की मांग है’। दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘हम इस प्रयास का समर्थन करते हैं। सरकार ने राज्य सभा में इससे पल्ला झाड़ लिया है। लेकिन विपक्ष इसे मरने नहीं देगा क्योंकि यह जीने के अधिकार को छीनने का मामला है’। पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा, ‘अपराध प्रक्रिया संहिता इस बाबत मौन है। लिहाजा सरकार को पहल कर भीड़ की हत्या मसले पर कानून बनाना चाहिए’। आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने कहा कि जितनी जल्दी हो इस बाबत संसद में पहल होनी चाहिए। सरकार नहीं तो विपक्ष की ओर से होनी चाहिए। उनकी पार्टी इस मुद्दे पर विपक्ष के साथ है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार विधानसभा में भीड़ की हत्या के खिलाफ प्रस्ताव पारित कर चुकी है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग