December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

अंतिम संस्कार के लिए भी पैसे नहीं, पुलिस ने की मदद

दो दिनों तक परिजन रुपए निकालने के लिए बैंक के चक्कर काटते रहे।

Author नोएडा | November 30, 2016 05:10 am
पुराने हजार के नोट।

500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने के कारण लोगों की दिनचर्या तो प्रभावित हुई ही है, लेकिन अब इसका असर अंतिम संस्कार पर भी पड़ रहा है। सेक्टर-9 में सोमवार को एक महिला की मौत के बाद बैंक से रुपए नहीं मिल पाने के कारण उसका दाह संस्कार तक नहीं हो सका, जबकि मृतक महिला के पति के खाते में 16 हजार रुपए जमा थे। दो दिनों तक परिजन रुपए निकालने के लिए बैंक के चक्कर काटते रहे। मामले के मीडिया में आने के बाद सक्रिय हुई पुलिस के दखल के बाद पीड़ित परिवार को बैंक से 15 हजार रुपए मिल सके। वहीं पुलिसकर्मियों ने अपनी ओर से पीड़ित परिजनों को 2500 रुपए उपलब्ध कराए। उसके बाद मंगलवार शाम को महिला का अंतिम संस्कार किया जा सका। सेक्टर-9 की झुग्गी बस्ती में रहने वाली फूलमती की कैंसर के कारण सोमवार दोपहर को मौत हो गई थी। फूलमती के पति चुन्नी लाल समेत अन्य परिवार वालों का आरोप है कि वे सोमवार से ही सेक्टर-9 की बैंक आॅफ इंडिया की शाखा से रुपए निकालने के लिए लाइन में लगे हैं। चुन्नी लाल के खाते में 16 हजार रुपए होने और दो दिनों तक लाइन में लगने के बावजूद उन्हें रुपए नहीं मिले, जिसके कारण फूलमती का अंतिम संस्कार नहीं हो पाया।

मीडिया के जरिए सूचना मिलने पर स्थानीय चौकी के पुलिसकर्मियों ने परिजनों को अपनी तरफ से 2500 रुपए दिए। साथ ही मंगलवार को बैंक से 15 हजार रुपए निकलवाने में मदद की, जिसके बाद शाम को महिला का अंतिम संस्कार किया जा सका। इस मामले पर बैंक के शाखा प्रबंधक ने बताया कि सोमवार दोपहर से ही रुपए खत्म हो गए थे, जिसके कारण पीड़ित परिजनों को रुपए नहीं दिए जा सके। दूसरी ओर, लोगों ने आरोप लगाया है कि बैंक में कई दिनों से लाइन में लगने के बावजूद ज्यादातर लोगों को रुपए नहीं होने की बात कहकर लौटाया जा रहा है। गौरतलब है कि शहर में दर्जनों सामाजिक संगठन होने के बावजूद किसी ने भी पीड़ित परिवार की मदद करने की पहल नहीं की। हालांकि मंगलवार दोपहर नोएडा से सपा प्रत्याशी अशोक चौहान ने मृतक महिला के परिजनों को 10 हजार रुपए आर्थिक मदद के रूप में सौंपे।

 

दिल्ली: नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 30, 2016 5:10 am

सबरंग