December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

बैंकों में नहीं 500 के नए नोट, 2000 के नोट से कतरा रहे लोग

500 रुपए के नोट नहीं पहुंचने और 100 रुपए के नोटों की कमी के चलते लोगों को दोहरा नुकसान झेलना पड़ रहा है।

Author नोएडा | November 16, 2016 04:02 am
प्रतीकात्मक तस्वीर।

शहर के बैंकों और एटीएम में मंगलवार को 500 रुपए के नोट नहीं पहुंचने से लोगों की परेशानी जस की तस बनी रही। कई बैंकों में 100 रुपए के नोट खत्म होने के कारण 4500 की जगह सिर्फ 4000 रुपए बदले गए। खुले पैसों की समस्या के कारण लोग 2000 रुपए का नया नोट लेने से भी कतरा रहे हैं। एक बैंक में 100 रुपए के नोट मांगे जाने पर लोगों और बैंककर्मियों के बीच कहासुनी भी हुई, जिसे वहां मौजूद पुलिसकर्मियों की मदद से सुलझाया गया।

बैंक सूत्रों ने 500 रुपए के नोट नहीं आने का कारण आरबीआइ और बैंकों के बीच सामंजस्य की कमी बताया है। स्थानीय बैंक शाखाओं को नकदी के लिए मुख्य शाखाओं से रकम तय करनी थी। ज्यादातर स्थानीय और मुख्य शाखाओं में कई सौ किलोमीटर की दूरी होने की वजह से यह संकट बना हुआ है, जिसके चलते लोगों को अभी और इंतजार करना पड़ सकता है।

नोएडा में विभिन्न बैंकों की 457 शाखाएं और करीब 2000 एटीएम हैं। 500 और हजार रुपए के पुराने नोट बंद होने के फैसले के बाद से करीब 60 फीसद एटीएम या तो खराब पड़े हैं, या उनमें नगदी नहीं डाली गई है, जबकि बैंक अधिकारियों ने मंगलवार से सभी एटीएम व बैंक शाखाओं में 500 रुपए के नोट मिलने की बात कही थी। 500 रुपए के नोट नहीं पहुंचने और 100 रुपए के नोटों की कमी के चलते लोगों को दोहरा नुकसान झेलना पड़ रहा है। पहला यह कि एटीएम से 100 के नोट निकलने से एक आदमी को बूथ में ज्यादा समय लग रहा है। वहीं एटीएम कुछ ही घंटे में खाली हो जा रहा है।

बैंकिंग जानकारों के मुताबिक, आरबीआइ और बैंक शाखाओं के बीच तालमेल की कमी के कारण नोट बदलने का संकट बढ़ सकता है। 100 रुपए के नोटों की कमी लगातार बढ़ रही है। नए नोटों की कमी नहीं है, लेकिन इन्हें बैंक की शाखाओं तक पहुंचाने में ज्यादा समय लग रहा है, जिसके कारण लोगों को घंटों लाइन में लगना पड़ रहा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 16, 2016 4:02 am

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग