ताज़ा खबर
 

दो दर्शकों ने दिल्ली विधानसभा में फेंका पर्चा, आप विधायकों ने कर दी पिटाई

दर्शकदीर्घा से दो पगड़ीधारी लोगों ने नारेबाजी करते हुए सदन में पर्चे फेंके और मंत्री सत्येंद्र जैन के इस्तीफे की मांग की।
Author नई दिल्ली | June 29, 2017 03:23 am
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (File Photo)

दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान बुधवार को उस समय हंगामे के हालात पैदा हो गए जब दर्शकदीर्घा से दो पगड़ीधारी लोगों ने नारेबाजी करते हुए सदन में पर्चे फेंके और मंत्री सत्येंद्र जैन के इस्तीफे की मांग की। इसके तुरंत बाद विधानसभा की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई, लेकिन, मामला यहीं नहीं थमा। मार्शल द्वारा बाहर ले जाए गए दोनों दर्शकों की कुछ विधायकों ने पिटाई कर दी जिससे एक कोज्यादा चोट आने से पुलिस उसे एंबुलेंस में ले गई। सदन की कार्यवाही फिर से शुरू होने पर दोनों की पहचान क्रमश: जगदीप राणा और राजन कुमार के रूप में हुई। अध्यक्ष ने उन्हें एक महीने के कारावास का आदेश सुनाया। सदन में फेंके पर्चे और विधायकों के बयानों के मुताबिक दोनों आम आदमी पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता हैं। भाजपा ने पिटाई में शामिल विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और नेता विपक्ष विजेंद्र गुप्ता की अनुपस्थिति में शुरू हुई सदन की कार्यवाही के दौरान विधायक आदर्श शास्त्री अपने क्षेत्र में अतिक्रमण का मुद्दा रख ही रहे थे कि दर्शक दीर्घा से दो लोग खड़े होकर पर्चे उड़ाने शुरू कर दिए और सत्येंद्र जैन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए नारेबाजी की। विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने दोनों को तुरंत गिरफ्तार करने के लिए कहा और मसले को अति गंभीर बताते हुए सदन आधा घंटा के लिए स्थगित कर दिया। अध्यक्ष ने यह भी कहा कि जिसकी भी अनुसंशा पर प्रवेश पास इन दोनों को निर्गत किया गया हो उन्हें उनके समक्ष प्रस्तुत किया जाए। लेकिन, अध्यक्ष की इस घोषणा के पहले ही कुछ विधायक सदन से बाहर निकले और मार्शल से दोनों को छीन कर उनकी पिटाई की। उनमें से एक को काफी चोटिल बताया गया। विधायक कपिल मिश्र ने 100 नं पर कॉल कर पुलिस को बुलाया।

कपिल मिश्र द्वारा साझा किए गए पर्चे की प्रति पर नीचे इंकलाब जिंदाबाद, आम आदमी पार्टी जिंदाबाद, लिखा गया था और ऊपर लिखा था कि हमारा यह काम पूरी तरह से अहिंसात्मक है और किसी को भी नुकसान पहुंचाने के लिए नहीं है। इसके बीच में केजरीवाल सरकार और आप के अंदर के भ्रष्टाचारों का जिक्र किया गया था और केजरीवाल की चुप्पी पर सवाल उठाए गए थे। कपिल मिश्र ने लोगों के शक को दूर करते हुए कहा, यह मेरे साथ नहीं आए हुए हैं, लेकिन यह स्पष्ट है कि विधानसभा का चुनाव लड़ा हुआ है। जगदीप राणा, आम आदमी पार्टी का आदर्श नगर से उम्मीदवार रह चुका है जबकि दूसरा व्यक्ति राजन पंजाब के आप का संगठन प्रभारी रहा है। मिश्रा ने कहा कि जिस तरह से उन्हें बंद करके मारा जा रहा है, अगर पुलिस ने नहीं बचाया तो उनकी हत्या हो जाएगी। भाजपा विधायक मनजींदर सिंह सिरसा ने कहा कि चुने हुए प्रतिनिधियों ने इन दोनों शख्स के साथ जो किया है वह शोभनीय नहीं है। कार्रवाई कानून के दायरे में होनी चाहिए। घटना का बयान देते हुए आप के बागी विधायक पंकज पुष्कर ने कहा, ‘जिस प्रकार सदन से छह-सात विधायक दौड़े, पुलिस से छीन कर उनको मारा गया यह संसदीय इतिहास में सबसे दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। दिल्ली की विधानसभा लगातार आक्रामक होती जा रही है। यह उसी की एक चरम परिणति है। विधानसभा परिसर में मौजूद पुलिसकर्मियों ने हंगामे को शांत करवाने का प्रयास किया।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग