March 24, 2017

ताज़ा खबर

 

नीतीश कटारा हत्याकांड मामले में सुप्रीम कोर्ट 3 अक्टूबर को सुनाएगा फैसला

उच्चतम न्यायालय ने 17 अगस्त 2015 को विकास, विशाल और सुखदेव की दोषसिद्धि को बरकरार रखा था तथा कहा था कि इस देश में ‘केवल अपराधी ही न्याय के लिए चिल्ला रहे हैं।’

Author नई दिल्ली | October 2, 2016 13:57 pm
नीतीश कटारा हत्याकांड मामले में दोषी विकास यादव, उसका चचेरा भाई विशाल यादव। (पीटीआई फाइल फोटो)

उच्चतम न्यायालय नीतीश कटारा हत्याकांड मामले में विकास यादव, उसके चचेरे भाई विशाल तथा उनके सहयोगी सुखदेव पहलवान की सजा की अवधि पर सोमवार (3 अक्टूबर) को फैसला करेगा। कटारा की वर्ष 2002 में हत्या कर दी गई थी और इन तीनों को सनसनीखेज मामले में दोषी ठहराया गया था। न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति सी नागप्पन की पीठ विकास और विशाल द्वारा दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ दायर की गईं अपीलों पर फैसला सुनाएगी। दिल्ली उच्च न्यायालय ने उनकी उम्रकैद की सजा किसी छूट के बिना 25 साल तक के लिए बढ़ा दी थी और सबूत नष्ट करने के लिए पांच साल की अतिरिक्त सजा दी थी। उच्च न्यायालय ने कटारा की हत्या को ‘झूठी शान के लिए’ हत्या करार दिया था।

विकास और विशाल के सहयोगी सुखदेव यादव उर्फ पहलवान की उम्रकैद की सजा भी किसी छूट के बिना 25 साल तक के लिए बढ़ा दी गई थी। अदालत ने उनके द्वारा किए गए अपराध को ‘दुर्लभ में भी दुर्लभतम श्रेणी’ का करार दिया था, लेकिन यह कहते हुए फांसी की सजा नहीं सुनाई थी कि उनके सुधार और पुनर्वास की संभावना ‘से इंकार नहीं किया जा सकता।’ उच्चतम न्यायालय ने 17 अगस्त 2015 को विकास, विशाल और सुखदेव की दोषसिद्धि को बरकरार रखा था तथा कहा था कि इस देश में ‘केवल अपराधी ही न्याय के लिए चिल्ला रहे हैं।’

शीर्ष अदालत ने दोषसिद्धि को कायम रखते हुए कहा था कि वह उच्च न्यायालय द्वारा बढ़ाई गई तीनों दोषियों की सजा की अवधि के संबंध में सीमित पहलू पर याचिकाओं पर अलग-अलग विचार करेगी। इसने सजा की अवधि की गुंजाइश पर दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया था और छह सप्ताह के भीतर जवाब मांगा था। पूर्व में उच्च न्यायालय ने कहा था कि कटारा की हत्या ‘झूठी शान’ के नाम पर की गई हत्या है, जो ‘चरम प्रतिशोध’ की भावना से ‘बहुत ही योजनाबद्ध और नियोजित तरीके से की गई।’ कटारा के विकास की बहन से प्रेम संबंध थे। अदालत ने विकास और विशाल पर लगाए गए जुर्माने की राशि भी बढ़ा दी थी और उन्हें छह सप्ताह में 54-54 लाख रुपए निचली अदालत में जमा करने का निर्देश दिया था।

कटारा के अपहरण और हत्या के मामले में निचली अदालत ने मई 2008 में विकास (39) और विशाल (37) को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। बिजनेस एक्जीक्यूटिव कटारा एक रेलवे अधिकारी का पुत्र था। वर्ष 2002 में 16-17 फरवरी की रात उसकी हत्या कर दी गई थी। विकास और विशाल उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेता डीपी यादव की पुत्री भारती से कटारा के प्रेम संबंधों के खिलाफ थे। उच्च न्यायालय ने दो अप्रैल 2014 को निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा था। अदालत ने कहा था कि विकास, विशाल और सुखदेव ने कटारा की इसलिए हत्या कर दी क्योंकि भारती और कटारा अलग-अलग जातियों से थे और इस वजह से दोषी उनके प्रेम संबंध के खिलाफ थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 2, 2016 1:57 pm

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग