ताज़ा खबर
 

राजधानी में मंत्री और सांसद तक सुरक्षित नहीं

वीवीआइपी इलाके माने जाने वाले संसद मार्ग थाने से लेकर नॉर्थ एवेन्यू, साउथ एवेन्यू, कनॉट प्लेस, तिलक मार्ग, तुगलक रोड, बाराखंभा रोड, चाणक्यपुरी और मंदिर मार्ग में दर्ज इस तरह के मामलों से पुलिस सुरक्षा व्यवस्था की तस्वीर साफ होती है।
Author नई दिल्ल | August 2, 2017 04:20 am
संसद भवन। (Photo: Indian Express)

राजधानी दिल्ली के अति सुरक्षित इलाके भी आपराधिक वारदातों से अछूते नहीं हैं। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री और सांसदों के आवास के आसपास भी चोरी, छेड़खानी और बलात्कार जैसी गंभीर वारदात होती रही हैं। वीवीआइपी इलाके माने जाने वाले संसद मार्ग थाने से लेकर नॉर्थ एवेन्यू, साउथ एवेन्यू, कनॉट प्लेस, तिलक मार्ग, तुगलक रोड, बाराखंभा रोड, चाणक्यपुरी और मंदिर मार्ग में दर्ज इस तरह के मामलों से पुलिस सुरक्षा व्यवस्था की तस्वीर साफ होती है। इन इलाकों में हमारे सांसद रहते हैं, लेकिन कभी उनके घरों से बर्तन गायब हो रहे हैं तो कभी टेलीविजन। 24 घंटे पीसीआर और जिले की पुलिस की निगरीनी के बावजूद ये वारदात हो रही हैं। हालांकि इन इलाकों में दर्ज 68 मामलों में से 19 मामले सुलझा कर 26 शातिर आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है, लेकिन दो सालों में पुलिस में दर्ज रिकॉर्ड का यह एक अदना सा खुलासा है।

सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई एक रिपोर्ट में नई दिल्ली जिले के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त और जन सूचना अधिकारी नई दिल्ली जिला आरपी मीना ने इन वीवीआइपी इलाकों में होने वाली घटनाओं की थानावार सूचना दी है। मीणा के मुताबिक, तिलक मार्ग थाने में बलात्कार का एक मामला दर्ज हुआ जबकि नॉर्थ एवेन्यू, तिलक मार्ग और साउथ एवेन्यू में छेड़खानी के मामले दर्ज कराए गए हैं। ऐसा कोई थाना नहीं है जहां चोरी की एक भी वारदात दर्ज नहीं हुई। सबसे ज्यादा 24 चोरी के मामले संसद मार्ग थाने में दर्ज हैं जबकि नॉर्थ एवेन्यू में सात मामले, तिलक मार्ग व तुगलक रोड में 15-15 आवासों में शातिरों ने हाथ साफ किया है। बाराखंभा रोड में चार, साउथ ऐवन्यू में दो और चाणक्यपुरी में सिर्फ एक मामला दर्ज किया गया। जब इन मामलों की ताजा स्थिति के बारे में नई दिल्ली जिले के पुलिस उपायुक्त और दिल्ली पुलिस के मुख्य प्रवक्ता से फोन पर जानकारी लेने की कोशिश की गई तो वे उपलब्ध नहीं हो सके। इसी साल आठ मार्च को सूचना के अधिकार के लिए लड़ने वाले सामाजिक मानवाधिकार कार्यकर्ता जीशान हैदर को यह जानकारी दी गई है। बहरहाल, इस सूचना के बाद इतना तो कहा जा सकता है कि राजधानी में कोई भी सुरक्षित नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग