December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी से मेट्रो को फायदा, दोगुनी हुई कमाई

हफ्ते के दौरान सबसे अधिक आमदनी मेट्रो कार्ड के जरिए हुई है। मेट्रो स्टेशनों पर कार्ड से भुगतान कराने वालों की भीड़ भी बढ़ गई है।

Author नई दिल्ली | November 16, 2016 03:59 am
प्रतीकात्मक तस्वीर।

500 और 1000 रुपए के पुराने नोट के चलन से बाहर होने से दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) को खासा फायदा हुआ है। मेट्रो अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली मेट्रो की कमाई बीते एक हफ्ते में दोगुनी हो गई है। मेट्रो स्टेशन पर कार्ड से भुगतान कराने वालों के साथ-साथ कार्ड में 500 रुपए या उससे अधिक की राशि का रीचार्ज कराने वालों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है।

मेट्रो अधिकारियों का कहना है कि एक हफ्ते के दौरान सबसे अधिक आमदनी मेट्रो कार्ड के जरिए हुई है। मेट्रो स्टेशनों पर कार्ड से भुगतान कराने वालों की भीड़ भी बढ़ गई है। मेट्रो कर्मचारियों का कहना है कि खुले पैसों की कमी के कारण कार्ड को 500 या 1000 रुपए से रिचार्ज किया जा रहा है। वहीं कई लोगों को 500 व 1000 का नोट बदलने का एक रास्ता भी मिल गया है। राजीव चौक से नोएडा जा रहे पंकज सिंह का कहना था कि अब 500 और 1000 का पुराना नोट देखने का मन नहीं कर रहा। कैसे भी करके इसे अपनी जेब से निकालना है। पंकज का कहना था कि उनके पास 500 के तीन नोट थे, जिसमें से एक से उन्होंने मेट्रो कार्ड रिचार्ज करा लिया। अब बाकी बचे नोटों को बैंक जाकर बदलना पड़ेगा, या किसी तरह खर्च करना पड़ेगा।

वहीं नोएडा सेक्टर-15 के मेट्रो स्टेशन पर 550 रुपए का कार्ड रीचार्ज कराने आई छात्रा रोशनी का कहना था कि अब तक वह सिर्फ 200 रुपए का रीचार्ज कराती रही है, लेकिन पुराने नोट बंद होने के कारण पहली बार 500 रुपए का रीचार्ज कराना पड़ा। राजीव चौक मेट्रो स्टेशन कार्ड रीचार्ज कराने आए रोहित का कहना था कि मेट्रो के 500 और हजार के नोट स्वीकारने से लोगों को सहूलियत मिल रही है और इसकी मियाद 24 नवंबर तक बढ़ने से लोगों को भी इसका और फायदा मिलेगा। बैंकों के बाहर लंबी कतार लगी है और एटीएम से पैसे निकालने में भी मुश्किल हो रही है। ऐसे में अपना पैसा अपने पास ही आ रहा है, जिसका इस्तेमाल आगे भी किया जा सकता है।

नोटबंदी पर दिल्‍ली विधानसभा में हंगामा, केजरीवाल का आरोप- पीएम माेदी ने आदित्‍य बिरला ग्रुप से ली 25 करोड़ की घूस

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 16, 2016 3:59 am

सबरंग