December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

कारोबारियों की शिकायतें सुनने पहुंचे सिसोदिया

कारोबारियों ने कहा कि उनका कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है क्योंकि पिछले कुछ दिनों में ग्राहकों की संख्या घट गई है।

Author नई दिल्ली | November 13, 2016 05:09 am
डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया

दिल्ली सरकार ने भाजपा के इस आरोप को गलत बताया है कि उनका वैट विभाग राजधानी के कारोबारियों को तंग करने के लिए उनके यहां पर छापे डलवा रहा है। कारोबारियों की शिकायतें सुनने के लिए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने चांदनी चौक का दौरा किया। बड़े नोटों को अमान्य करार देने के केंद्र के कदम के मद्देनजर कारोबारियों की समस्या सुनने गए सिसोदिया को कारोबोरियों ने बताया कि नकदी की कमी से उनके कारोबार पर असर पड़ा है। अपनी दैनिक जरूरतों के लिए भी उन्हें गंभीर समस्या झेलनी पड़ रही है। कई दुकानदारों ने उनसे शिकायत की है कि उत्पाद शुल्क विभाग उनके यहां पर छापे मार रहा है।

रेहड़ी-पटरी लगाने वाले किशन कुमार ने उपमुख्यमंत्री को बताया कि न तो उनके पास और न ग्राहकों के पास नकदी है, जिसके कारण उन्हेंं आजीविका से जुड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कारोबारियों ने कहा कि उनका कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है क्योंकि पिछले कुछ दिनों में ग्राहकों की संख्या घट गई है। व्यापारी अजय बाबू सक्सेना ने सिसोदिया को बताया कि उनके पास कोई काम नहीं है। उपमुख्यमंत्री ने पत्रकारों से सवाल किया कि क्या इन कारोबारियों के पास कोई काला धन है? उनके पास तो अपने बच्चों की स्कूल फीस और अपने कर्मचारियों को तनख्वाह देने तक के पैसे नहीं हैं। सिसोदिया ने कहा कि सरकार के इस कदम से सिर्फ कारोबारी तबाह हुए हैं।

इसके अतिरिक्त बड़े नोटों पर पाबंदी के पांचवें दिन लोगों के पास अब आटा, दाल, चावल और नमक खरीदने तक के पैसे नहीं रह गए हैं। ऐसे में किराना दुकानदार शनिवार को उधारी से बचने और बिक्री घटने से अपनी दुकान का शटर गिराते दिखे। शनिवार दोपहर 2 बजे तक न्यू अशोक नगर के कई किराना दुकानदारों ने अपना शटर बंद कर दिया। दुकानदारों का कहना है कि लोग दुकानों पर पांच और हजार के नोट लेकर आ रहे हैं साथ ही उधार मांगने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। जबकि दुकानदारों का कहना है कि आटा, दाल व दूध के बड़े कारोबारी पांच सौ और हजार के पुराने नोट लेने से सीधे मना कर दिए हैं। ऐसे में दुकानदार अपनी दुकान बंद करना ही रास्ता मान रहे हैं।

नोट बदलने के लिए बैंक पहुंचे राहुल गांधी, कतार में खड़े रहे; कहा- “लोगों का दर्द बांटने आया हूं”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 13, 2016 5:09 am

सबरंग