December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

नरेंद्र मोदी भले महत्व न दें, पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने मंच पर लाल कृष्ण आडवाणी को दी सबसे अहम जगह

दिल्ली के झंडेवाला मंदिर के पास आरएसएस के नए दफ्तर के लिए हुई पूजा के वक्त सिर्फ लाल कृष्ण आडवाणी को संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ पूजा में बैठे देखा गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के सीनियर नेता लाल कृष्ण आडवाणी। (फाइल फोटो)

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सीनियर नेता लाल कृष्ण आडवाणी को भले ही भारतीय जनता पार्टी से दरकिनार करके देखा जाने लगा हो लेकिन राष्ट्र स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यक्रम में आडवाणी को प्रमुख जगह दी गई। दिल्ली के झंडेवाला मंदिर के पास आरएसएस के नए दफ्तर के लिए हुई पूजा के वक्त सिर्फ लाल कृष्ण आडवाणी को संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ पूजा में बैठे देखा गया। वह पूजा नई बिल्डिंग के शीलान्यास के लिए की गई थी। कार्यक्रम में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद थे। दोनों के अलावा संघ के भी कई सीनियर नेता वहां पूजा में मौजूद थे। लेकिन आडवाणी को सबसे खास स्थान दिया गया।

गौरतलब है कि कई बार ऐसी बातें सामने आई हैं जिनमें इस बात का दावा किया गया है कि आडवाणी नरेंद्र मोदी को पीएम पद के उम्मीदवार के रूप में नहीं देखना चाहते थे। आडवाणी के सहायक रह चुके विश्वंभर श्रीवास्तव ने अपनी किताब ‘आडवाणी के साथ 32 साल’ में दावा किया था कि 2013 में भाजपा के संसदीय बोर्ड की जिस बैठक में नरेंद्र मोदी को पार्टी का प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया गया, उस बैठक में शामिल होने के लिए आडवाणी तैयार थे लेकिन लोगों ने उन्हें उनके घर पर ही रोक दिया था। मोदी को प्रधानमंत्री पद के लिए पार्टी का उम्मीदवार बनाए जाने के विरोध में रहे आडवाणी ने संसदीय बोर्ड की उस बैठक में शिरकत नहीं की थी ।

आडवाणी का जन्म आठ नवंबर 1927 को कराची शहर में एक संपन्न सिंधी संयुक्त परिवार में हुआ था। आडवाणी ने खुद अपनी आत्मकथा में बताया है कि वो 34 चचेरे भाई-बहनों के बीच पले-बढ़े थे। उनकी शुरुआती पढ़ाई-लिखाई कराची के सबसे बेहतरीन स्कूल माने जाने वाले सेंट पैट्रिक में हुई। उनके पिता किशनचंद कारोबारी और मां ज्ञानी देवी गृहिणी थीं। उनके दादा धर्मदास खूबचंद आडवाणी संस्कृत के विद्वान और सरकारी हाई स्कूल के प्रिंसपल थे। उनकी एक बहन है, शीला जो उनसे छह साल छोटी हैं और अभी मुंबई में रहती हैं। 8 नवंबर 2016 को आडवाणी के जन्मदिन पर पीएम मोदी उन्हें बधाई देने पहुंचे थे। पीएम मोदी के साथ बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह भी मौजूद थे। पीएम ने ट्वीटर पर भी लाल कृष्ण आडवाणी को शुभकामनाएं देते हुए उनकी लंबी उम्र की कामना की। पीएम ने ट्वीट किया था, ‘हमारे मार्गदर्शक और प्रेरक, सम्मानीय श्री लालकृष्ण आडवाणी जी को जन्मदिन पर हार्दिक शुभकामनाएं। मैं आडवाणी जी की लम्बी उम्र और बेहतर स्वास्थ्य की कामना करता हूं।’

वीडियो: 88 वर्ष के हुए भाजपा के भीष्म पितामह लाल कृष्ण आडवाणी, जानिए कुछ खास बातें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 14, 2016 10:39 am

सबरंग