May 26, 2017

ताज़ा खबर

 

कश्‍मीर को रेल के जरिए भारत से जोड़ने को देश का पहला मेगा केबल पुल बनाएगा रेलवे

यह पुल कश्‍मीर को देश के रेलवे नेटवर्क से जोड़ेगा और कटरा से बनिहाल के बीच बनेगा। इस पुल का निर्माण अंजी खड्ड पर होगा।

एक दशक के उतार-चढ़ाव के बाद भारतीय रेलवे देश का पहला मेगा केबल रेलवे पुल बनाएगा। यह पुल कश्‍मीर को देश के रेलवे नेटवर्क से जोड़ेगा और कटरा से बनिहाल के बीच बनेगा। इस पुल का निर्माण अंजी खड्ड पर होगा। कई सालों से यह मसला अटका हुआ था। इससे पहले रेलवे ने कटरा और रियासी के बीच वृत्‍ताकार पुल बनाने का फैसला किया था लेकिन भौगोलिक स्थितियों के कारण इसे टाल दिया गया। इस प्रोजेक्‍ट पर काम भी हुआ लेकिन 2008 में इसे बंद कर दिया गया। साथ ही 2012 में इसे प्‍लान को त्‍याग दिया गया। इसके चलते रेलवे को कांट्रेक्‍टर को 111 करोड़ रुपये चुकाने पड़े थे। रेलवे का कहना है कि पहले किए गए काम का नए कार्य में इस्‍तेमाल हो जाएगा। केबल वाले पुल में वजन दो टावरों के बीच लगाए जाने वाले तारों द्वारा सहा जाता है।

रेलवे ने पहले भी इस तरह के पुल बनाए हैं लेकिन वे रोड ओवरब्रिज थे। अंजी खड्ड पुल चिनाब नदी के ऊपर बनाया जाएगा और इस पर 458 करोड़ रुपये का खर्च होगा। निर्माण 196 मीटर ऊंचा होगा और इसका दायरा 290 मीटर में होगा। इसकी डिजाइन विदेशी फर्म ने बनाई है। अधिकारियों का कहना है कि निर्माण तीन साल में पूरा हो जाएगा। उत्तरी रेलवे के निर्माण के प्रमुख एके सचान ने बताया, ”हम केबल वाला पुल बनाएंगे। यह टाइप फाइनल हो चुका है। विस्‍तार से डिजाइन पर काम किया जा रहा है।”

पुराना वाला प्‍लान बंद करने के बाद रेलवे ने नई जगह पर छोटा और आसान पुल बनाने का फैसला किया। उस समय के सदस्‍य एपी मिश्रा ने नई लोकेशन के लिए स्‍टडी का आदेश भी दिया था लेकिन इस पर अमल नहीं हो पाया। रोचक बात है कि 2008-09 में रेलवे बोर्ड के पूर्व चेयरमैन एम रवींद्र की अध्‍यक्षता वाली कमिटी ने सुझाव दिया था कि अंजी पुल की वर्तमान लोकेशन मेगा आर्च पुल के लिए ठीक नहीं है। लेकिन 2015 में रेलवे की श्रीधरन कमिटी ने कहा कि वर्तमान लोकेशन ओर प्‍लान ही रहेगा। कटरा को बनिहाल से जोड़ने के काम में रेलवे को काफी आलोचना झेलनी पड़ी है। कैग ने इस निर्माण पर 3000 करोड़ रुपये के नुकसान का आकलन किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 10, 2016 8:52 pm

  1. No Comments.

सबरंग