April 28, 2017

ताज़ा खबर

 

जेएनयू: एबीवीपी नेता को मिला धमकी भरा खत- मुस्लिम को हाथ लगाने की हिम्मत कैसे की? तुम्हारे टुकड़े-टुकड़े कर देंगे

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के पूर्व ज्वाइंट सेक्रेट्री और एबीवीपी के सदस्य सौरभ शर्मा को धमकी भरा खत मिला।

एबीवीपी के सदस्य सौरभ शर्मा

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के पूर्व ज्वाइंट सेक्रेट्री और एबीवीपी के सदस्य सौरभ शर्मा को शुक्रवार (21 अक्टूबर) को धमकी भरा खत मिला। मिली जानकारी के मुताबिक, सौरभ को धमकी भरा खत उनके झेलम हॉस्टल में उनके कमरे पर मिला। खत में सौरभ को ‘टुकड़ों में काटने’ की बात कही गई। सौरभ ने बताया, ‘मुझे सुबह एक खत मिला। उसमें पश्चिम बंगाल की हिंसा का जिक्र था। खत में मुझे किसी भी मुसलमान को छूकर दिखाने की धमकी दी गई। लिखा था कि नजीब वापस आए या ना आए मुझे टुकड़ों में काट दिया जाएगा। मुझे ऐसे पत्र पहले भी मिलते रहे हैं लेकिन मैं अपनी राष्ट्रवादी सोच पर फिर भी टिका रहूंगा।’ पत्र स्पीड पोस्ट के जरिए भेजा गया था। उसपर शाहिद खान नाम लिखा हुआ था। शाहिद का पता जहांगीर पुरी लिखा है। साथ में एक मोबाइल नंबर भी है। सौरभ उन लोगो में शामिल है जिन्होंने 9 फरवरी को जेएनयू केंपस में लगे ‘देश विरोधी नारों’ की शिकायत दर्ज करवाई थी। वह कार्यक्रम अफजल गुरु की याद में किया गया था।

वीडियो: Top 5 News

लेटर में लिखा गया, ‘सौरभ वर्मा, लगता है तुमने पश्चिम बंगाल से कुछ सबक नहीं लिया जहां हमारे लड़के तुम्हारे समुदाय के लोगों को काट रहे हैं। तुमने मुसलमान को छूने की हिम्मत कैसे की? नजीब वापस मिले ना मिले लेकिन हम तुम्हें ढूंढकर एबीवीपी और पूरे जेएनयू को आग लगा देंगे। उस वक्त के आने तक इंतजार करो।’

गौरतलब है कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ बायोटेक्नोलॉजी में पढ़ने वाला छात्र नजीब अहमद शनिवार से लापता है। शनिवार को उसकी और कुछ छात्रों के बीच किसी बात को लेकर लड़ाई हुई थी। उसके बाद से ही नजीब अहमद गायब है। वसंतकुंज थाने में इसको लेकर अपहरण,जबरन बंधक बनाने का मामला दर्ज किया गया है। नजीब की मां ने कहा उन्हें अपना बेटा वापस चाहिए और आरोप लगाया कि प्रशासन उनके प्रति बहुत ‘‘असंवेदनशील’’ है। जेएनयू प्रशासनिक ब्लॉक के बाहर बैठीं फातिमा नफीस ने रोते हुए संवाददाताओं से कहा था, ‘‘मुझे मेरा बेटा लौटा दो। मैं किसी के खिलाफ किसी कार्रवाई की मांग नहीं करूंगी। मुझे सिर्फ वह वापस चाहिए और एक बार वह मुझे मिल गया तो मैं चली जाउंगी।’’

Read Also: पत्रकारों से रोते बिलखते बोली मां- मुझे मेरा बेटा वापस लौटा दो

जेएनयू के प्रशासनिक ब्लॉक के बाहर विद्यार्थी कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। फातिमा ने कहा, ‘प्रशासन ने परिसर से उसके लापता होने की सूचना हमें नहीं दी। मैं आयी और खुद पुलिस के पास गयी। हम जबरन कुलपति के कार्यालय में घुसे जहां उन्होंने कहा कि वह अपना सर्वोत्तम प्रयास कर रहे हैं। वह हमारे प्रति बहुत असंवदनशील रहे हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 10:18 am

  1. A
    ankit payasi
    Oct 21, 2016 at 8:47 am
    उम्मीद करता हु की देश में दूसरा विश्वविद्यालय JNU की तरह न हो यहाँ लोग पढ़ने भविस्य बनाने नही राजनीति करने आते है और आगे चलके यही लोग भृस्ट नेता बनेंगे
    Reply
    1. J
      Jasodaben
      Oct 21, 2016 at 5:05 am
      Bjp has influenced media agencies, edu insutions and other administrations too in name of nationalism. But it will not help- जिस मक़सद में हिट्लर नाकाम रहा वो भाजपा कैसे हासिल कर लेगी। भाजपा का अंत एक क्रांतिकारी रूप लेगा और फ़्रेंच revolution की तरह भारत में भी एक Revolution होना निश्चित है।
      Reply
      1. S
        Shrikant Sharma
        Oct 21, 2016 at 7:15 am
        श्रीकांतशर्मा न्यूयॉर्क से खबर दे रहे हैं की नज़ीब अहमद पाकिस्तानी कैन्टून मेन्ट्स में बने सिमी के टेररिस्ट कैम्प्स में देखा गया है भारत की सेनाएं अगर एक और सर्जिकल स्ट्राइक करती हैं और उसे पकड़ लाती हैं तो पाकिस्तान कहीं भी अपना कला मुख नहीं दिखा पायेगा.
        Reply

        सबरंग