ताज़ा खबर
 

जावड़ेकर ने संभाला एचआरडी मंत्रालय का प्रभार, स्मृति ईरानी नहीं पहुंचीं इस मौके पर

पर्यावरण मंत्री रहे 65 वर्षीय जावड़ेकर को मंगलवार (5 जुलाई) को मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल में प्रोन्नत कर कैबिनेट स्तर का मंत्री बनाया गया है
Author नई दिल्ली | July 7, 2016 18:45 pm
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (पीटीआई फाइल फोटोे)

मानव संसाधन विकास मंत्री का पदभार ग्रहण करने वाले प्रकाश जावडेकर ने गुरुवार (7 जुलाई) को कहा कि देश में शिक्षा क्षेत्र के सामने जो प्रमुख चुनौती है, वह शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाना और यह सुनिश्चित करना है कि यह सभी तक पहुंचे। पदभार ग्रहण करने के बाद उन्होंने कहा, ‘शिक्षा के क्षेत्र में जो बड़ी चुनौती है, वह है उसका स्तर ऊंचा करना। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा अहम है क्योंकि यह जीवन के लिए बुनियाद ढालती है और सर्वांगीण व्यक्तित्व का निर्माण करती है।’

हालांकि उनकी पूर्ववर्ती स्मृति ईरानी इस मौके पर नहीं पहुंचीं। ईरानी को कपड़ा मंत्रालय दिया गया है। जावड़ेकर ने कहा कि वह पारिवारिक वजहों से इस मौके पर नहीं पहुंच पाई। बुधवार (6 जुलाई) को उन्होंने ईरानी से भेंट की थी और उन्हें अपनी छोटी बहन बताया था। उन्होंने कहा था कि वह उनकी अच्छी पहलों को आगे ले जाएंगे। उन्होंने कहा कि शिक्षा का मूल उद्देश्य बस रोजगार नहीं है, यह उसका सह उत्पाद है।

उन्होंने कहा, ‘शिक्षा का उद्देश्य जीवन के लिए बुनियाद डालना है जिसके आधार पर समाज का निर्माण होता है। यह शिक्षा क्षेत्र का कर्तव्य है और हम इस चुनौती को स्वीकार करते हैं। हमारा मिशन यह सुनिश्चित करना है कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सभी तक पहुंचे।’

जावड़ेकर के साथ उनके राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा एवं महेंद्र पांडे भी थे। मानव संसाधान विकास मंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र में प्रचुर अवसर और चुनौतियां हैं जिन पर वे मिलकर काम करेंगे। जब उनसे स्मृति ईरानी के बारे में जदयू के एक नेता की विवादास्पद टिप्पणी के संबंध में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह सबसे भद्दा बयान है। उन्होंने कहा, ‘मैं किसी की टिप्पणी पर कोई बयान नहीं देना चाहता।’

उन्होंने नीतिगत मुद्दों के संबंध में कहा कि मंत्रालय के अधिकारियों से ब्रीफिंग लेने के बाद ही वह कोई टिप्पणी करेंगे। जावड़ेकर ने यह भी बताया कि वह शीघ्र ही एक कार्यक्रम के लिए पुणे जाएंगे जहां उन्हें पढ़ाने वाले शिक्षकों को सम्मानित किया जाएगा। पदभार ग्रहण करने के बाद उन्होंने अपने मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक की।

अधिकारियों ने बताया कि मंत्री ने संस्थानों की भौगोलिक सूचना प्रणाली मैपिंग और शिक्षकों की रिक्तियां भरने समेत कई मुद्दों पर बातचीत की। पर्यावरण मंत्री रहे 65 वर्षीय जावड़ेकर को मंगलवार को मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल में प्रोन्नत कर कैबिनेट स्तर का मंत्री बनाया गया है और उन्होंने स्मृति ईरानी का स्थान लिया है जिन्हें कपड़ा मंत्रालय में भेजा गया है।

बुधवार (6 जुलाई) को जावड़ेकर ने छात्र आंदोलनों के संबंध में कहा था, ‘मैं छात्र आंदोलन की उपज हूं, अतएव हम हमेशा सभी से बातचीत करेंगे। चूंकि यदि बाचतीत होगी तो आंदोलन की जरूरत ही नहीं रहेगी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Shrikant Sharma
    Jul 7, 2016 at 4:32 pm
    हे विल साइलेंट थे क्रिटिक ऑफ़ जनु/उस्मनिा यनिवर्सिटी एंड आल थे सूडो सेक्युलर लॉबी ऑफ़ एजुकेशन दपपतस इन कॉलेजेस एंड स्कूल्ज स्पेशली इन उप बिफोर इलेक्शंस.
    (0)(0)
    Reply