ताज़ा खबर
 

‘चौकस’ तिहाड़ में सुरंग बनाकर फरार हुए दो चोर, गृह मंत्रालय ने रिपोर्ट मांगी

देश की सबसे सुरक्षित मानी जानेवाली दिल्ली की तिहाड़ जेल से शनिवार रात दो कैदी दीवार में सुरंग बनाकर फरार हो गए। सुबह कैदियों की गिनती के समय जब दोनों को सेल में नहीं पाया गया...
Author June 30, 2015 08:45 am
तिहाड़ की जेल नंबर 7 में बंद जावेद और फैजान ने पहले जेल नंबर 7 की दीवार फांदी और फिर जेल नंबर 8 की दीवार तोड़कर उसमें सुरंग बनाकर बाहर निकल गए।

देश की सबसे सुरक्षित मानी जानेवाली दिल्ली की तिहाड़ जेल से शनिवार रात दो कैदी दीवार में सुरंग बनाकर फरार हो गए। सुबह कैदियों की गिनती के समय जब दोनों को सेल में नहीं पाया गया तो खोजबीन शुरू हुई और आनन-फानन में नाले के पास दुबक कर बैठे एक को पकड़ लिया गया। गृह मंत्रालय ने मामले में रिपोर्ट तलब की है। उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार ने जांच के साथ ही कुछ अधिकारियों के तबादले और घटना की जिम्मेवारी तय करने की बात कही है। दिल्ली पुलिस के आला अधिकारियों की देखरेख में कई टीमें बनाई गई हैं।

बताया जा रहा है कि चोरी के आरोप में दो महीने पहले जावेद और फैजान को जेल नंबर-सात में बंद किया गया था। तय योजना के मुताबिक शनिवार रात दोनों कैदियों ने पहले सात नंबर जेल की तेरह फीट ऊंची दीवार में 2-2 फीट की दो सुरंग बनाईं और उनसे होते हुए आठ नंबर की जेल में आ गए। बाद में दोनों वहां की 16 फीट ऊंची दीवार को कूदने में सफल नहीं हुए तो उन्होंने दीवार में सेंध लगा डाली। फिर उन्होंने 13 फुट ऊंची चौथी दीवार लांघ डाली और नाले में पहुंच गए। वहां पहुंच कर फैजान घबरा गया जबकि जावेद भाग गया।

जावेद देवली का रहने वाला है, जबकि फैजान का परिवार मदनपुर खादर में रहता है। जेल अधिकारी जब कैदियों की गिनती करने लगे तो दोनों अपने वार्ड में मौजूद नहीं थे। जेल वार्डन को पहले लगा कि दोनों दूसरी जेल में चले गए होंगे पर छानबीन और गहन जांच के बाद जब यह अहसास हुआ कि वे जेल से फरार हो गए हैं तो आनन फानन में घंटी बजा कर खोजबीन शुरू की गई। पूरे जेल परिसर और आसपास के इलाके को खंगाला गया तो फैजान नाले के पास ही जेल अधिकारियों के हत्थे चढ़ गया
जबकि जावेद फरार हो चुका था। बिना पुलिस को बताए रविवार दिन भर दोनों की तलाश की गई जब जेल प्रशासन को लगा कि अब मामला हाथ से निकल चुका है और यह साफ है कि मामला कैदियों की फरारी का हो गया तो फिर हरिनगर पुलिस को सूचना दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस ने भी कई टीमें बनाकर जांच शुरू कर दी।

पुलिस का कहना है कि फरार कैदी को पकड़ने के लिए धरपकड़ शुरू करने के अलावा इस बात की भी जांच की जा रही है कि उनके भागने में अंदर के किसी व्यक्ति का हाथ तो नहीं है।

कैदी के फरार होने की सूचना मिलते ही केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तुरंत इस मामले में जेल अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी। दिल्ली के उप-राज्यपाल नजीब जंग ने दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के जिलाधीश अंकुर गर्ग को जांच की जिम्मेदारी सौंपकर एक हफ्ते के भीतर रिपोर्ट सौंपने को कहा।

दिल्ली सरकार ने भी मामले की गंभीरता को देखते हुए उपायुक्त बलवान सिंह को जांच के निर्देश दिए हैं। दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि यह मामला बहुत गंभीर है लिहाजा सबसे पहले जेल के उन अधिकारियों और कर्मचारियों की जिम्मेवारी तय होगी जिसकी देखरेख में कैदी थे और फरार होने में सफल हुए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग