ताज़ा खबर
 

दिल्ली हाई कोर्ट में हिन्दी को राष्ट्रीय भाषा का दर्जा देने के लिए याचिका

इस याचिका में पूरे देश में छह से 14 साल के बच्चों के लिए हिन्दी को अनिवार्य विषय बनाये जाने के लिए सरकार को निर्देश जारी करने की भी मांग की गई है।
Author नई दिल्ली | September 18, 2016 16:26 pm
दिल्ली उच्च न्यायालय (फाइल फोटो)

दिल्ली उच्च न्यायालय में हिन्दी को देश की राष्ट्रीय भाषा घोषित करने के लिए केन्द्र सरकार को उचित कदम उठाने संबंधी निर्देश जारी करने की मांग वाली एक याचिका दायर की गयी है। न्यायालय अगले सप्ताह इस याचिका पर सुनवाई कर सकता है। इस याचिका में पूरे देश में छह से 14 साल के बच्चों के लिए हिन्दी को अनिवार्य विषय बनाये जाने के लिए सरकार को निर्देश जारी करने की भी मांग की गई है। याचिका में दावा किया गया है कि ‘हिन्दी’ देश के बहुसंख्यक लोगों द्वारा बोली जाने वाली भाषा है और यह सभी नागरिकों के बीच आर्थिक, धार्मिक और राजनीतिक संवाद स्थापित करने में सक्षम है।

इसमें कहा गया है कि संविधान निर्माताओं ने संविधान निर्माण के समय हिन्दी को आधिकारिक भाषा बनाये जाने के मुद्दे पर विस्तार से विचार-विमर्श किया था और इसमें देवनागरी लिपि में लिखी जाने वाली हिन्दी को गणराज्य की आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार करने का निर्णय किया गया था। अधिवक्ता अश्वनी कुमार उपाध्याय की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया है, ‘संविधान के अनुच्छेद 351 के तहत केन्द्र सरकार हिन्दी भाषा के प्रोत्साहन और प्रचार-प्रसार के कर्तव्य से बंधी है और यह देश की मिली-जुली संस्कृति के सभी तत्वों को अभिव्यक्त करने में सक्षम है। सरकार इसके संवर्धन एवं संरक्षण के लिए भी बाध्य है।’

याचिका में कहा गया है कि संविधान निर्माताओं ने अन्य भाषाओं के सहयोग से हिन्दी को एक समग्र भाषा के रूप में विकसित करने की परिकल्पना की थी और यह गैर-हिन्दी भाषी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों द्वारा स्वीकार किये जाने में भी सक्षम है। याचिका में कहा गया है कि हिन्दी ही केवल ऐसी भाषा है, जिसमें सभी देशवासियों के बीच संवाद स्थापित करने की क्षमता है। इसमें कहा गया है, ‘हिन्दी को बगैर और देरी किये देश की राष्ट्रीय भाषा घोषित करना शासन की जिम्मेदारी है। यह केवल स्थिति और अवसरों की समानता के लिए ही नहीं, बल्कि भाईचारा के प्रोत्साहन के लिए भी आवश्यक है और यह देश के नागरिक के लिए गरिमा, एकता और अखंडता भी सुनिश्चित करती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग