ताज़ा खबर
 

राजस्थान से मंगार्इं ईवीएम वापस ले आयोग: अरविंद केजरीवाल

केजरीवाल ने यह भी मांग की है कि राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त दलों को चुनावों में इस्तेमाल किए जाने वालीं ईवीएम मशीनों की इजाजत दी जाए।
Author नई दिल्ली | April 13, 2017 03:09 am
आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (PTI Photo)

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को राज्य चुनाव आयोग को पत्र लिखकर राजस्थान से मंगाई गर्इं ईवीएम मशीनों को वापस लेने की मांग की और कहा कि नगर निगम चुनाव में केवल वीवीपीएटी से लैश ईवीएम मशीनों का उपयोग किया जाए। केजरीवाल ने यह भी मांग की है कि राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त दलों को चुनावों में इस्तेमाल किए जाने वालीं ईवीएम मशीनों की इजाजत दी जाए।  केजरीवाल ने राज्य चुनाव आयुक्त एसके श्रीवास्तव को लिखे पत्र में कहा है, ‘यह वास्तव में आश्चर्य की बात है कि आपने वीवीपीएटी मशीनों की मांग नहीं की। धौलपुर से ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की हाल में जो घटना हुई है उससे स्पष्ट है कि भाजपा राजस्थान में ईवीएम मशीनों के कोड/सॉफ्टवेयर को बदलने में सफल रहा है क्योंकि राज्य में उस पार्टी की सरकार है और सभी मशीनें उनकी निगरानी में हैं’। आप संयोजक ने पूछा है कि राज्य चुनाव आयोग ने ईवीएम की पीढ़ी 1 की मशीनों को क्यों मंगवाया है जो कि सबसे ज्यादा असुरक्षित हैं। केजरीवाल ने इन मशीनों को तुरंत वापस लेने की मांग की है।

केजरीवाल ने कहा कि शहर में करीब 15,000 ईवीएम मशीनें उपलब्ध हैं जो कि नगर निगम चुनावों को करवाने के लिए पर्याप्त हैं। केजरीवाल ने ईवीएम मशीनों की जांच के संदर्भ में यह भी कहा है, ‘सभी राज्य और राष्ट्रीय स्तर के दलों को दिल्ली नगर निगम चुनावों के लिए इस्तेमाल में लाए जाने वाले मशीनों की तकनीकी जांच की अनुमति होनी चाहिए। साथ ही निगम चुनाव केवल और केवल वीवीपीएटी युक्त ईवीएम मशीनों से करवाई जाए’। वीवीपीएटी को अनिवार्य बनाए जाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश का उल्लेख करते हुए केजरीवाल ने आयोग से पूछा है कि वह वीवीपीएटी मशीनों को मंगवाने की कोशिश क्यों नहीं करता। आप संयोजक ने एसके श्रीवास्तव को संबोधित पत्र में यह भी कहा है कि चुनावी प्रक्रिया में लोगों के विश्वास को धक्का लगा है और इस विश्वास को वापस लाने के लिए आयोग को आगे बढ़ कर काम करना होगा, नहीं तो यह हमारे लोकतंत्र के लिए खतरनाक होगा। केजरीवाल ने उम्मीद जाहिर की है कि उनकी मांग पर भी आयोग उतनी ही त्वरित कार्रवाई करेगा जितना भाजपा की मांगों पर करता है। हाल ही में केजरीवाल ने केंद्रीय चुनाव आयोग को धृतराष्ट्र की संज्ञा देते हुए कहा था कि वह केवल अपने पुत्र (भाजपा) को जिताने के लिए काम कर रहा है।

 

बीजेपी यूथ विंग के नेता ने कहा- "ममता बनर्जी का सिर काटकर लाने वाले को 11 लाख रुपए दूंगा"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग