ताज़ा खबर
 

मां-बेटी सहित तीन की मौत, 14 घायल शाहदरा में ई-रिक्शा की चार्जिंग के दौरान लगी आग

इससे पहले भी ई-रिक्शा चार्ज करने के दौरान बाहरी दिल्ली में दो लोगों की मौत हो चुकी थी।
Author नई दिल्ली | November 3, 2016 04:48 am
ई-रिक्शा ।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के शाहदरा के मोहन पार्क इलाके में ई-रिक्शा चार्ज के दौरान बुधवार तड़के एक चार मंजिला इमारत में आग लगने से मां-बेटी सहित तीन लोगों की मौत हो गई और 14 लोग घायल हो गए। घायलों में तीन की हालत गंभीर बताई जा रही है। इससे पहले भी ई-रिक्शा चार्ज करने के दौरान बाहरी दिल्ली में दो लोगों की मौत हो चुकी थी। दिल्ली फायर ब्रिगेड की पांच गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। इसके बाद मामले का पुलिस के सुपुर्द कर दिया। दिल्ली के श्रम मंत्री गोपाल राय और विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल घटना के तुरंत बाद घायलों से मिलने गुरु तेगबहादुर अस्पताल पहुंचे। चिकित्सा निदेशक डॉक्टर सुनील कुमार ने मरीजों का जानने के बाद मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की।

पुलिस के मुताबिक अनिल अपने तीन भाइयों प्रदीप, सतीश और कन्हैया के परिवार के साथ ए-ब्लॉक मोहन पार्क, नवीन शाहदरा में रहते हैं। इमारत में कुल आठ फ्लैट हैं। इसमें दूसरी और तीसरी मंजिल के चार फ्लैटों में चार भाइयों का परिवार रहता है। जबकि पहली मंजिल और चौथी मंजिल के चार फ्लैट किराए पर हैं। बुधवार तड़के करीब पांच बजे अचानक एक घर में आग गई। आग की लपटों ने धीरे-धीरे कई फ्लैटों को अपने कब्जे में ले लिया। घटना के समय करीब 25 लोग इस मकान में थे। इनमें से सात लोग ही सुरक्षित बाहर निकल पाए। पुलिस के मुताबिक चारों भाइयों में एक भाई कन्हैया ई-रिक्शा किराए पर चलवाता है। मंगलवार रात में पार्किंग में करीब एक दर्जन ई-रिक्शा रखे हुए थे। इनमें कई चार्ज में लगे थे। इसके साथ एक कार व दो स्कूटर और दो मोटरसाइकिलें भी पार्किंग में खड़ी थीं। शुरुआती जांच में पुलिस को पता चला है कि सुबह करीब साढ़े चार बजे जलने की गंध आने पर एक महिला की नींद खुली।

असम: काले जाूद के चक्‍कर में तांत्रिक ने दे दी चार साल की बच्‍ची की बलि

उन्होंने बाहर देखा तो पार्किंग से धुआं निकल रहा था। महिला के शोर मचाने के बाद अन्य लोग अपने फ्लैटों से बाहर निकल पाते उससे पहले आग इतनी बढ़ चुकी थी कि नीचे की मंजिल से निकलने का रास्ता बंद हो चुका था। स्थानीय लोगों ने सूझबूझ दिखाते हुए लकड़ी की सीढ़ियां लगाकर कुछ लोगों को बाहर निकाला। मकान में बतौर किरायेदार रहने वाले सतीश और उसकी पत्नी सोनिया ने जान बचाने के लिए पहली मंजिल से छलांग लगा दी। इसकी वजह से सतीश का पैर टूट गया और उसकी पत्नी भी घायल हो गई। इन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया जहां डाक्टरों ने आठ साल की करीना, उसकी मां 30 साल की रजनी और एक अन्य रिश्तेदार 35 साल के संजय को मृत घोषित कर दिया। घायलों की पहचान अंजलि, खुशी, अंशू, सतीश, सोनिया, राजेंद्र, विक्की, नेहा, निशा, पारू, श्रवणलता और अनिल के रूप में हुई है। दो लोगों लोगों की पहचान की जा रही है। शुरुआती जांच में आग लगने का कारण मकान के भूतल पर ई-रिक्शा की पार्किंग बताई जा रही है। यहां ई-रिक्शा को चार्ज करते हुए शार्ट सर्किट से आग लग गई और धीरे-धीरे पूरे घर में फैली बताई जारी है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग