December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

प्रेग्‍नेंसी के दौरान पत्‍नी का सेक्‍स से इनकार क्रूरता नहीं, नहीं दे सकते तलाक: दिल्‍ली हाईकोर्ट

अदालत का मानना था कि पति द्वारा लगाए गए आरोप 'बिना किसी ब्‍यौरे' के थे व 'अस्‍पष्‍ट' थे।

चित्र का इस्‍तेमाल केवल प्रस्‍तुतिकरण के लिए किया गया है।

दिल्‍ली उच्‍च न्‍यायालय ने अपने एक आदेश में कहा है कि गर्भावस्‍था के दौरान पत्‍नी का यौन संबंध बनाने से इनकार करना ‘क्रूरता’ नहीं है। इस आधार पर उसके पति को तलाक देने का अधिकार नहीं दिया जा सकता। अदालत ने यह भी कहा कि अगर पत्‍नी सुबह देर से उठती है या बिस्‍तर पर चाय की मांग करती है तो इससे यही जाहिर होता है कि वह आलसी है और ‘आलसीपन क्रूरता नहीं’ है। अदालत ने यह टिप्‍पणी एक व्‍यक्ति द्वारा क्रूरता के आधार पर तलाक की अर्जी को खारिज करने के फैमिली कोर्ट के फैसले के खिलाफ की गई अपील पर सुनवाई के समय की। अदालत ने कहा, ”याचिका कि पत्‍नी ने अगस्‍त, 2012 के बाद पति को यौन सुख देने से इनकार किया, अगर यह सच है तो भी यह देखा जाए कि मई, 2012 के तीसरे हफ्ते तक वह परिवार बढ़ाने की तरफ बढ़ रही थी।” जस्टिस प्रदीप नंदराजोग और प्रतिभा रानी की बेंच ने कहा, ”कोख में गर्भ पाल रही महिला जाहिरा तौर पर सेक्‍स के लिए नहीं मानेगी और यह मान लिया जाए कि उसने गर्भावस्‍था के बढ़ने पर पूरी तरह से याचिकाकर्ता (पति) को सेक्‍स के लिए इनकार कर दिया है, क्रूरता नहीं है।” अदालत ने आगे कहा, ”यह कहना कि पत्‍नी देर से उठती थी और चाय की मांग करती थी, इससे यही पता चलता है कि वह आलसी थी, और आलसीपन क्रूरता नहीं है।’

बढ़ रहे प्रदूषण के लिए करें ये उपाय, देखें वीडियो: 

पारिवारिक अदालत का मानना था कि पति द्वारा लगाए गए आरोप ‘बिना किसी ब्‍यौरे’ के थे व ‘अस्‍पष्‍ट’ थे। हाईकोर्ट ने भी फैमिली काेर्ट की इस बात से सहमति जताई। अदालत ने कहा कि अपनी याचिका में व्‍यक्ति ने अपनी पत्‍नी पर लगाए गए आरोपों का कोई स्‍पष्‍ट ब्‍यौरा नहीं दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 6, 2016 7:29 pm

सबरंग