ताज़ा खबर
 

दिल्ली: भैयादूज के मौके पर बसों ने कराया इंतजार, मेट्रो ने किया निराश

भैयादूज के मौके पर दिल्ली सरकार ने महिलाओं को डीटीसी की बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधा तो दे दी, लेकिन सड़कों पर डीटीसी की बसों की काफी कमी देखी गई है।
Author नई दिल्ली | October 22, 2017 01:55 am
दिल्ली परिवहन निगन की बस (फाइल फोटो)

राजधानी में भैयादूज के मौके पर दिल्ली सरकार ने महिलाओं को डीटीसी की बसों में मुफ्त यात्रा की सुविधा तो दे दी, लेकिन सड़कों पर डीटीसी की बसों की काफी कमी देखी गई है। इसके साथ ही तकनीकी खामियों के कारण मेट्रो ने भी निराश किया। इसा फायदा तिपहिया चालकों ने उठाया है। तिपहिया चालकों ने यात्रियों से मनमाने भाड़े वसूले। दिल्ली में शनिवार को ऐसा दिखाई दिया कि जैसे सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था चरमरा गई है। बहरहाल शनिवार को भैया दूज के मौके पर बसों की कमी के कारण काफी संख्या में महिलाएं डीटीसी की बसों में मुफ्त सफर नहीं कर पार्इं। आम आदमी पार्टी ने दिल्ली परिवहन निगम, डीटीसी की बसों में शनिवार को महिलाओं को सुबह आठ बजे से रात दस बजे तक एसी और नॉन एसी बसों में मुफ्त यात्रा करने की सुविधा देने की घोषणा की थी। सरकार ने ये भी घोषणा की कि इस दिन यात्रियों की भीड़ के मद्देनजर पर्याप्त इंतजाम भी किए गए हैं।

लेकिन शनिवार को सुबह महिलाएं अपने भाईयों के घरों के लिए निकली, तो सड़कों पर आम दिनों के मुकाबले काफी कम बसें दिखाई दीं। जो बसें आ भी रहीं थीं, वो पहले ही खचाखच भरी हुई थीं। जिसे देखते हुए काफी संख्या में महिलाओं ने तिपहियों पर यात्रा की या फिर निजी कैब का सहारा लिया। सड़कों पर शनिवार को आम दिनों से ज्यादा निजी वाहन दिखाई दिए। देखा जाए तो दिल्ली में पर्याप्त संख्या में बसें नहीं होने के कारण दिल्ली की सड़कों पर निजी वाहनों का बोझ बेकाबू होता जा रहा है। इस कारण जाम व वायु प्रदूषण की समस्या गंभीर हो गई है। वहीं, सड़कों पर दुर्घटनाएं भी बढ़ रही हैं। दिल्ली में इन दिनों प्रदूषण की एक ये भी समस्या मानी जा रही है, लेकिन इस समस्या के समाधान के लिए कोई ठोस पहल नहीं हो रही है।

भैया दूज के दिन महंगा किराया देकर बहन-भाई को एक दूसरे के पास समय से पहुंचाने में मेट्रो भी फेल रही। हर बार की तरह इस बार भी भाईयों के पास मंगल टीका करने जाने वाली बहनों के लिए दिल्ली परिवहन निगम ने (डीटीसी) मुफ्त यात्रा का प्रस्ताव दिया था लेकिन बसों की संख्या कम होने से लोगों को घंटों बसों का इंतजार करना पड़ा। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में द्वारका सेक्टर-21 और नोएडा सिटी सेंटर को जोड़ने वाली ब्लूलाइन पर शनिवार को सुबह तकनीकी गड़बड़ी के चलते मेट्रो सेवाएं करीब 45 मिनट तक प्रभावित रहीं जिससे यात्रियों को भारी परेशानी हुई।सुबह नौ बजकर बीस मिनट पर आर के आश्रम और राजीव चौक के बीच बिजली आपूर्ति उपकरण ट्रेन के संबंधित उपकरण में फंस गया। ट्रेन राजीव चौक जा रही थी।नौ बजकर बीस मिनट से लेकर दस बजकर पांच मिनट तक ट्रेन की सेवाएं यमुना बैंक और नोएडा-वैशाली के बीच, करोल बाग और द्वारका सेक्टर के बीच सीमित कर दी गई। इस दौरान करोल बाग और यमुना बैंक के बीच बस एक लाईन पर मेट्रो चलती रही। दिल्ली मेट्रो ने बताया कि संबंधित मेट्रो टीम ने डाउन लाइन में प्रभावित खंड में गड़बड़ियां दुरुस्त की और वहां फंसी ट्रेन को दस बजकर पांच मिनट पर हटाया गया। उसके पश्चात ट्रेनों की सामान्य आवाजाही बहाल हो पाई।

भैया दूज होने के कारण शनिवार को मेट्रो स्टेशनों पर भीड़ थी। लेकिन छुट्टी के दिन भैयादूज होने से यात्रा करने वालों की संख्या आम दिनों से ज्यादा नहीं हो पाई। और यात्रियों के कम होने की दूसरी वजह 10 अक्तूबर से मेट्रो का बढ़ा किराया भी रही। मेट्रो प्रवक्ता ने बताया कि सामान्य दिनों में 26-27 लाख लोग यात्रा करते हैं यह संख्या शनिवार को 23 लाख और रविवार को 21-22 लाख हो जाती है। शनिवार के दिन भैयादूज होने से यात्रियों की संख्या औसत दिनों के बराबर हो पाई है। किराया बढ़ने का असर यात्रियों पर हुआ है लेकिन बहुत ज्यादा नहीं। सही आंकलन करीब महीने भर में हो पाएगा। मेट्रो के अधिकारी यह मानने को तैयार नहीं हैं कि मेट्रो में यात्रा करने वाले बसों का विकल्प मिलने पर बसों में ज्यादा यात्रा करने लगेंगे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.