ताज़ा खबर
 

पुलिस ने पांडव नगर में हुई दस लाख की लूट का मामला सुलझाया

10 लाख की यह लूट 19 दिसंबर को पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर में स्टेट बैंक आॅफ इंडिया में कैश डालने आई कैशवैन के कर्मचारियों से हुई थी।
Author नई दिल्ली | December 27, 2016 04:00 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

नोटबंदी के बाद दिल्ली में 19 दिसंबर को कैश वैन में हुई पहली लूट के मामले में दिल्ली पुलिस ने सोमवार को तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर मामले को सुलझा लिया है। 10 लाख की यह लूट 19 दिसंबर को पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर में स्टेट बैंक आॅफ इंडिया में कैश डालने आई कैशवैन के कर्मचारियों से हुई थी। गिरफ्तार बदमाशों की पहचान बिट्टू, रोहित नागर और सनी के रूप में हुई है। तीनों करावलनगर के रहने वाले हैं। इन तीनों के पास से नौ लाख 48 हजार रुपए, एक पिस्तौल और एक मोटरसाइकिल बरामद किए गए।

पूर्वी जिले के पुलिस उपायुक्त ओमवीर सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस में घटना की जानकारी देते हुए बताया कि इस घटना का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया था जिससे यह बात साफ हुई थी कि किस तरह सिर्फ 20 सेकेंड में बदमाशों ने 10 लाख रुपए के नए नोट लूट लिए और भीड़ तमाशा देखती रही। कैशवैन के कर्मचारियों से मोटरसाइकिल सवार तीनों बदमाशों ने लूटपाट की थी। सीसीटीवी में यह साफ देखा गया था कि पहले टोपी और मफलर पहने एक युवक आता है। जैसे ही कैशवैन का कर्मचारी नीचे उतरने लगा, उसका अन्य साथी कैशवैन के गार्ड से बंदूक छिनने की कोशिश करता है। जब वह बंदूक छीनने की कोशिश में नाकामयाब रहा तो उसे वैन के पीछे ले गया और वहीं इस दौरान टोपी और मफलर वाला व्यक्ति पिस्तौल निकालकर फायरिंग कर दिया।

गोली चलाते ही सभी लोग इधर-उधर भागने लगे फिर टोपी और मफलर पहना युवक कैश वैन से नोटों से भरा ब्रीफकेस निकाल कर अपने साथियों के साथ आसानी से लेकर फरार हो गया। उपायुक्त ने बताया कि दिन दहाड़े हुई इस लूटपाट के बाद पुलिस ने इसे चुनौती की तरह लेते हुए टीमें बनाई और फुटेज खंगालकर जांच शुरू कर दी। इस तरह लूटपाट करने वाले गिरोह पर नजर रखी गई और फिर पूर्वी दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली के बाजारों में लगे सीसीटीवी फुटेज को देखा गया। तभी रविवार को एक सूचना मिली कि लूटपाट के इस मामले में शामिल बदमाश क्रास रिवर माल के पास जमा होने वाला है। पुलिस ने जाल बिछाया और जैसे ही बदमाश जमा हुए उन्हें बिना समय गंवाए दबोच लिया गया। वे सभी हरिद्वार से कार से यहां पहुंचे थे। पूछताछ में पता चला कि सनी भजनपुरा में कैब चलाता है। वह मूल रूप से हिमालच प्रदेश का है और इस समय करावलनगर इलाके में रहता है।

रिएलिटी चेक: पुरानी दिल्ली और शामली के बीच रेलवे लाइन पर हर 12 दिन में होती है एक मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग