ताज़ा खबर
 

दिल्ली: विपक्ष के तीखे तेवरों के बीच विधानसभा सत्र आज से

आप के निलंबित मंत्री कपिल मिश्र ने विधानसभा अध्यक्ष से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के सबूत सदन के पटल पर रखने की इजाजत मांगी है।
Author नई दिल्ली | June 28, 2017 02:56 am
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (File Photo)

बुधवार से शुरू हो रहे विधानसभा के दो दिवसीय विशेष सत्र में दिल्ली के विद्यार्थियों के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय के 28 कॉलेजों में आरक्षण, नालों के गादों की सफाई पर सदन की समिति की रिपोर्ट और अतिथि शिक्षकों की बहाली के मुद्दे पर चर्चा होगी। हालांकि, विपक्ष के तेवर के बीच सदन के हंगामेदार रहने के आसार हैं। वहीं आप के निलंबित मंत्री कपिल मिश्र ने विधानसभा अध्यक्ष से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के सबूत सदन के पटल पर रखने की इजाजत मांगी है। दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, विधानसभा के विशेष सत्र के पहले दिन आप विधायक ग्रामसभा की जमीन पर स्वामित्व के मुद्दे को भी उठा सकते हैं। जमीनों के ये टुकड़े केंद्र के बीस सूत्रीय कार्यक्रम के तहत चार दशक पहले आबंटित किए गए थे। सत्र के पहले दिन मानसून के मद्देनजर पीडब्लूडी और नगर निगम की तैयारियों व कामकाज पर सदन की समिति की रिपोर्ट भी पेश की जाएगी। इस समिति की अध्यक्षता कर रहे विधायक सौरभ भारद्वाज रिपोर्ट सदन के सामने रखेंगे। विशेष सत्र के दूसरे दिन गुरुवार को दिल्ली विश्वविद्यालयों के कॉलेजों में शहर के विद्यार्थियों के आरक्षण का मुद्दा उठाया जाएगा। डीयू के ऐसे 28 कॉलेज हैं, जिन्हें दिल्ली सरकार वित्तीय सहायता देती है। इन कॉलेजों में दिल्ली के विद्यार्थियों के लिए कुछ सीटें आरक्षित करने की मांग पर चर्चा होगी और प्रस्ताव पारित किया जाएगा।

इस महीने की शुरुआत में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से दिल्ली के विद्यार्थियों के लिए इन कॉलेजों में आरक्षण की संभावनाओं पर विचार करने को कहा था। दिल्ली सरकार के स्कूलों में अतिथि शिक्षकों की बहाली में दिल्ली के निवासियों के तरजीह देने संबंधी मांग पर भी चर्चा और प्रस्ताव सत्र के दूसरे दिन संभव है। सरकार के अधिकारी के मुताबिक, दिल्ली के सरकारी स्कूलों में जल्द ही करीब 9000 शिक्षकों की भर्ती की जा सकती है। हालांकि, पहले से एजंडा न बताए जाने से नाराज विपक्ष के तेवर सत्र को लेकर तीखे हैं। इसके साथ ही विपक्ष की ओर से सत्येंद्र जैन के इस्तीफे की मांग को भी सदन की कार्यवाही के दौरान मुद्दा बनाया जा सकता है, जिससे हंगामे की स्थिति पैदा हो सकती है।

वहीं कपिल मिश्र ने विधानसभा अध्यक्ष से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के सबूत सदन के पटल पर रखने की इजाजत मांगी है। मिश्र ने दावा किया है कि उनके पास केजरीवाल और जैन के खिलाफ भ्रष्टाचार से संबंधित 16,000 पन्नों के महत्त्वपूर्ण दस्तावेज हैं, जिन्हें वह सदन के पटल पर रखना चाहते हैं। इसके साथ ही मिश्र ने इस विशेष सत्र को रामलीला मैदान जैसे किसी ऐसे स्थान पर बुलाए जाने की मांग की है, ताकि दिल्ली की जनता भी प्रत्यक्ष रूप से इस सत्र को देख सके। गौरतलब है कि विधानसभा के पिछले सत्र में कपिल मिश्र ने भ्रष्टाचार का बैनर दिखाया था, जिसके बाद सता पक्ष के विधायकों के साथ धक्का-मुक्की की नौबत आ गई थी और मिश्र को सदन की कार्यवाही से बाहर कर दिया गया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग