December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

प्रदूषण से जंग की तैयारी में सिसोदिया, दिल्ली सरकार ने जारी किया रोड मैप

दिल्ली सरकार ने लिया सड़कों की वैक्यूम क्लीनिंग, धूल कणों को उड़ने से रोकने के लिए पानी छिड़काव का फैसला।

Author नई दिल्ली | November 2, 2016 03:25 am
डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया

ठंड के महीनों में प्रदूषण में बढ़ोतरी की आशंका को देखते हुए दिल्ली सरकार ने एक रोड मैप जारी किया है। दिवाली की आतिशबाजी के बाद प्रदूषण में बेतहाशा बढ़ोतरी के बाद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को एक उच्च-स्तरीय बैठक ली। जिसमें सड़कों की वैक्युम क्लीनिंग करने और उन पर पानी छिड़काव जैसे फैसले लिए गए। इसके साथ ही दिल्ली के सभी शवदाह गृहों को हरित शवदाह गृह में बदलने पर भी फैसला लिया गया। हालांकि, सम-विषम पर फिलहाल कोई चर्चा नहीं हुई।

बैठक के बाद संवाददाताओं को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘सर्दियों के साथ प्रदूषण की समस्या बढेÞगी। प्रदूषण कम करने के नियमति उपायों के अलावा सम-विषम की तरह कुछ नया करने की जरूरत है। साथ ही उन्होंने जारी उपायों को तेज भी करने की जरूरत पर बल है।’ उन्होंने कहा दिल्ली की सीमाओं पर खड़े आॅटो के इग्निशन से फैलने वाले प्रदूषण के मुद्दे को केंद्र के साथ 4 नवंबर को बुलाई गई बैठक में उठाया जाएगा। उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘सड़कों के धूल-कण प्रदूषण के बड़े कारण हैं। मॉनसून के दौरान बंद कर दी गई पीडब्लूडी की सड़कों के वैक्युम क्लीनिंग के काम को 2 हफ्ते में फिर से शुरू किया जाएगा। इसके साथ ही इन सड़कों की सफाई के लिए विदेशों की तरह स्प्रींकलिंग जेट का उपयोग कि या जाएगा। इस जेट के माध्यम से सड़कों पर पानी छिड़काव किया जाएगा ताकि धूल-कण हवा में उड़ने के बजाय नाले में बह जाएं। पानी के छिड़काव का काम हफ्ते में एक बार होगा।’ दिल्ली सरकार ने इसके लिए पीडब्लूडी को योजना बनाने और दो हफ्ते में शुरू करने के निर्देश जारी किए हैं।

दिल्ली-नोएडा फ्लाइवे पर नहीं लगेगा टोल; SC का हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इंकार

इसके साथ ही गलियों, अनियमति कॉलोनियों में फैले छोटे निर्माण स्थलों से फैलने वाले प्रदूषण के संबंध में पर्यावरण विभाग को निर्देश जारी किए हैं कि इन जगहों पर निर्माण के नियमों के पालन के लिए लोगों को शामिल किया जाए। पर्यावरण विभाग को जागरूकता फैलाने और लोगों से शिकायत मंगवाकर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। उपमुख्यमंत्री ने बड़े चौराहों और अधिक प्रदूषण वाले जगहों पर मिस्ट फाउंटेन लगाने का भी निर्देश दिया है। इस फव्वारे के जरिए हवा में फैले धूल और प्रदूषण के अन्य कणों को नीचे लाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के सभी 75 शवदाह गृहों के हरे एक प्लेटफॉर्म पर चिमनी लगा कर उसका धुआं नियंत्रित किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट पर दिल्ली के नगर निगम और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति मिलकर काम करेंगे। इसके साथ ही लैंडफील साइट्स में मिथेन लीकेज को नियंत्रित करने के लिए ड्रिल कर पाइप बिछाई जाएगी। जिससे आए दिन बड़े पैमाने पर लगने वाली पर काबू पाया जा सके। इस संबंध में गाजीपुर लैंडफील साइट पर प्रयोग किया जा रहा है। दिल्ली सरकार भलस्वा, ओखला और गाजीपुर लैंडफील साइट्स की जांच करेगी।

मनीष सिसोदिया ने कहा कि प्रदूषण के उपायों को लागू करने के संबंध में हर हफ्ते समीक्षा बैठक होगी और जरूरत पड़ने पर और कदम उठाए जाएंगे। मंगलवार की बैठक में पीडब्लूडी मंत्री सत्येंद्र जैन, पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन, मुख्य सचिव के के शर्मा और पर्यावरण, पीडब्लूडी विभाग, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति और दिल्ली जल बोर्ड के प्रमुख अधिकारी शामिल रहे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 2, 2016 3:25 am

सबरंग